A House is not a Home Summary Analysis and Explanation By Polly Adler

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

A House is not a Home Summary, Explanation

A House Is Not A Home Summary About the Poet
Polly Adler (1900 – 1962) was born in Yanow on the Russian/Polish border in 1900, immigrated to New York City in 1912. She was an American madam and author of Russian-Jewish origin, best known for her work A House Is Not a Home, which was posthumously adapted into a film of the same name.

Polly Adler - A House is not a Home Summary

Poet Name Polly Adler
Born 16 April 1900, Ivanava, Belarus
Died 9 June 1962, Los Angeles, California, United States
Books A House Is Not a Home, Chaos de Luxe.
Movies A House Is Not a Home

A House is not a Home Introduction

The present story reflects the challenges of being a teenager and the problems of growing up in a completely new environment. The author, Zan Gaudioso narrates the real incident which took place in his own life when he was a teenager. He found it difficult to adjust in the new school and start afresh there. He missed his old friends, teachers and of course the school which he had to leave.

A House is not a Home Summary of the Lesson

In this story, Zan Gaudioso narrates his own story when he used to be a teenager. He joins a new high school and finds it difficult to adjust to the new place and make new friends. So, he feels lonely and isolated. He misses his old friends, teachers and of course the old school where he was leading a very comfortable student life.

One Sunday afternoon, while his mother is stoking the fire to keep the house warm and comfortable, he suddenly notices smoke pouring in through the seams of the ceiling. Soon the smoke fills the room and flames begin to engulf the roof. Panic-stricken, the author and his mother make their way outside in great haste.

The author runs to the neighbor to call the fire brigade, while his mother rushes into the burning house to collect important documents and some photos of his late father. The author is terrorized to see his mother taking such a big risk and screams at her.

In the meantime, the fire brigade arrives and his mother is saved. Suddenly he realises that his pet cat is missing. He has seen her nowhere. He falls into deep depression.

The fire fighters take five hours to put out the fire completely. The author’s house is almost completely burned down. So, he goes to his grandparents’ house with his mother. Next day, when he goes to school wearing the previous day’s dress and borrowed shoes, he feels embarrassed. He is very sad and feels insecure. His old school, his friends, his house and his cat—all have gone away.

After school that day, he comes to the place where his house once stood and is shocked to see the damage. Whatever hadn’t burned was destroyed by water and chemicals the fire fighters used to put out the fire. He has lost everything except the photo albums, documents and some other personal items. And the loss of his pet cat makes him so uneasy.

The news of the fire spreads quickly in the author’s new school. Everyone including the teachers is deeply grieved and comes to his help with books, clothes and school supplies. The author’s heart moves from within to see all this. He is overcome by emotion. People who had never spoken to him before are coming up to him with some kind of help. In the process he is able to make friends and so is happy and relieved.

A month later, the author is watching his house being rebuilt with his friends. Suddenly, a woman comes to him with his cat. His joy knows no bounds. He leaps up and grabs his pet out of the woman’s arms.

He holds her close to him and cries in happiness. His friends also hug the cat and jump around. It is a great day for the author. The feeling of loss and tragedy vanish at once. He feels grateful for his life, his friends and the kindness of the woman who brings his cat and his happiness back to him.

Weathering the Storm in Ersama Summary

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation. In this page, we are providing Weathering The Storm In Ersama Summary, It is also helpful for Class 9 Students.

Weathering the Storm in Ersama Summary

About the Poet of Weathering The Storm In Ersama Summary
Harsh Mander is an activist and author of several books including, Fractured Freedom: Chronicles from India’s Margins. He is the Director of the Centre for Equity Studies, a research organisation based in New Delhi. A social activist who works with survivors of mass violence and hunger, as well as homeless persons and street children.

Harsh Mander - Weathering the Storm in Ersama Summary

Poet Name Harsh Mander
Born 17 April 1955 (age 64 years), Shillong
Profession Author, Columnist, Researcher, Teacher
Education Vrije Universiteit Amsterdam, St Stephen’s College

Summary Of Weathering The Storm In Ersama Introduction

Weathering the Storm in Ersama by Harsh Mander is based on a true story of the adventures of a teenager Prashant was marooned on the roof of a house for two nights following the dreadful storm that hit Orissa (now Odisha) on 27th October 1999.

The storm had killed thousands of people and devastated hundreds of villages. Prashant showed extraordinary courage at the face of the great natural calamity. He saved his own life and came in the forefront to lead the disaster management in his village.

Weathering the Storm in Ersama Summary of the Lesson

On 27 October 1999, Prashant, a young boy of nineteen, went to meet his friend in Ersama, a small town in coastal Odisha. Osama was some eighteen kilometres away from his village. In the evening, weather suddenly changed and soon there occurred a strong storm with devastating winds. It was later termed as super cyclone. The wind velocity was 350 km per hour. Prashant had never witnessed such a menacing storm.

The storm was followed by heavy and incessant rain which washed away several houses and people. The angry waters swirled into his friend’s house, neck-deep. So, Prashant and his friend’s family took shelter on the rooftop where they spent two nights in the same position. They froze in the cold and continuous rain. Prashant could see in the grey light of the early morning the destruction caused by the super cyclone.

There was water everywhere in which standing some fractured cement houses in a few places. Bloated animal carcasses and human corpses floated in every direction. Even huge trees had fallen here and there. Prashant was worried about his family. But he was helpless.

Two days later, the rain stopped and the rain waters slowly began to recede. Then Prashant decided to go to his village and see his family. He took a long, sturdy stick, and then started on the difficult journey to his village through the swollen flood waters. At places the water was waist deep which slowed his journey. At several points, he lost the road and had to swim.

On the way, he came across many human bodies and carcasses of dogs, goats and cattle. But he could barely see a house standing while passing through the villages. Eventually Prashant reached his village, Kalikuda. He was depressed to see the widespread destruction everywhere.

He wanted to see his family members but found them nowhere. So, he went to the Red Cross shelter to for them. Fortunately, his family was alive. He thanked God for this.

N. Prashant was upset to see the miserable condition of the cyclone-affected people in the shelter. There was a big crowd there. They had nothing to eat except green coconuts. There was too much filth everywhere. Prashant could not be the silent spectator. He decided to do something for the survivors. First, he made arrangements for their food with the help of some youths and elders.

Then, he organised a team of youth volunteers to clean the shelter of filth, urine, vomit and floating carcasses, and to tend to the wounds and fractures of the many who had been injured.

On the fifth day, a military helicopter dropped some food parcels. But it did not return. Prashant and others devised a plan to attract the attention of the helicopter. They deputed children to lie around the shelter with empty utensils on their stomachs, to communicate to the passing helicopters that they were hungry. The plan was successful and after that the helicopter started dropping food packets and other basic needs.

Prashant’s rehabilitation work went on ceaselessly. He brought the orphaned children together and put up a polythene sheet shelter for them. He mobilised men and women to look after them with food and materials.

He also persuaded the women to start working in the food-for-work program started by an NGO, and for the children he organised sports events. Later orphans were resettled in new foster families made up of childless widows and children without adult care.

Thus, Prashant became the saviour of thousands of cyclone-affected people. His self-less service for the mankind is praiseworthy.

A Legend of the Northland Summary Analysis and Explanation By Phoebe Cary

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

A Legend of the Northland Summary Analysis and Explanation

About The Poet Phoebe Cary
A Legend Of The Northland Summary:
Summary of the poem a legend of the northland written by Phoebe Cary(1822-1871). This poem is a ballad. In this poem, the poet tells a ballad about the lady and the Saint. Saint Peter was hungry because of his journey worldwide.

Phoebe Cary - A Legend of the Northland Summary Analysis and Explanation

Poet Name Phoebe Cary
Born 4 September 1822, Mount Healthy, Ohio, United States
Died 31 July 1871, Newport, Rhode Island, United States
Nationality American
Genre prose
Siblings Alice Cary

A Legend of the Northland Introduction

This poem is a legend about an old lady who angered Saint Peter because of her greed. The poem is simple but teaches us a moral lesson that we should not be greedy. We must help the poor and hungry people. Human city is above all. It is the only quality that differentiates us from the animals. So, we should be compassionate towards those who genuinely need our help. Only then we can become a perfect human being. By not giving food to hungry Peter, the old lady provokes his anger who punishes her by turning her into a woodpecker.

A Legend of the Northland Summary of the Poem

In this poem, the poetess tells us a story of the Northland. At that time Saint Peter lived on the earth. He used to go round the world to preach people whom he met on the way. One day, he came to the door of a cottage where a little woman was making cakes and baking them on the hearth. Saint Peter had eaten nothing the whole day. So, he was fainting with hunger.

He asked the lady to give him a piece of cake. The woman was greedy and selfish. Giving something to anyone was a very difficult task for her. The cake that she was baking appeared to be too big. So she made a small cake for the hungry saint. But that also appeared to be too big to give away. So she made another one which was smaller even than the first. But when it was ready, it appeared to be big so she did not give him that also. Then she took an extremely little scrap of dough and rolled it flat.

She had it as thin as a wafer but she was too greedy to part with even this cake and put it on the shelf. This angered Saint Peter a lot. He told the greedy lady that she was not fit to live in the world in human form and enjoy food and shelter and warmth of fire. He cursed her and transformed her into a woodpecker who has to bore in the dry wood hard to get its scanty food. She can be seen in the wood where she still lives and keeps boring trees for her food all the day.

FAQs on A Legend of the Northland Summary

Q1. What is the summary of a legend of the Northland?
Ans: The poem is a legend about an old lady who angered Saint Peter because of her greed. The story goes’ on like this. In Northland lived a lady who was very selfish and greedy. Saint Peter while preaching the world reached her door one day.

Q2. What is the legend of the Northland as given in the poem?
Ans: “A Legend of the Northland” is a traditional, popular story composed in the style of a ballad. It narrates the legend of how St. Peter had once cursed an old lady for being mean and stingy. The poem, thus, imparts the important lesson that greed always gets punished.

Q3. Is the legend of the Northland a true story?
Ans: It is not a true story. The point of the story where the woman is turned into a woodpecker bird is the most important. This is so because the punishment teaches everyone the lesson to be generous. … Write the story of ‘A Legend of Northland’ in about ten sentences.

Q4. Who is the poet of a legend of Northland?
Ans: A Legend of the Northland. A Legend of the Northland : This poem narrates the legend of an old lady who angered Saint Peter because of her greed.

Rain on The Roof Summary Analysis and Explanation By Coates Kinney

Rain on the Roof Summary

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

Rain On The Roof Summary Line By Line Explanation

About the Poet Coates Kinney
The poet, Coates Kinney (1826-1904), is trying to relate the rain to his past memories both sweet and bitter. By listening to the patter of the rain, the poet, lies on his bed, holds his pillow tightly, and then gets lost in the thoughts of his caring and loving mother.

Summary Of Rain On The Roof Class 9 -  By By Coates Kinney

Rain on The Roof Poet Name Coates Kinney
Born 24 November 1826, Penn Yan, New York, United States
Died 25 January 1904, Ohio, United States
Nationality American
Education Antioch College

Rain on the Roof Introduction

This poem tells us about the poet’s sweet memory of his childhood. At night, when dark clouds cover the sky and it rains gently then the poet lies in his cosy bed and listens to the sound of the raindrops falling overhead on the roof of his cottage. The poet remembers the loving look of his mother who used to shower love and affection on her children.

Short Summary of The Poem Rain on The Roof Explanation

In this poem, the poet expresses his love for nature and praises the healing power of rain, especially when heard from a cosy bed in a lovely cottage. The poet is thrilled when he observes the starry sky being overcast with rain-bearing clouds. But he does not like the darkness that spreads all around. It is something like mourning the melancholic spirit of indescribable sadness. Soon it starts raining to compensate it with the spirit of peace for the lonely night at hand.

The poet feels immense pleasure to lie in his cottage-chamber bed with his head pressed against a soft pillow and listen to the sound of the raindrops falling on the tin roof overhead. Every drop of rain falling on the roof makes a tinkling sound that produces an echo in the poet’s heart.

These sounds arouse a thousand imaginations in the poet’s busy mind. The pattering sound of the raindrops also revives a thousand memories of his childhood. One of these memories is related to his dear mother who is not in this world. The poet remembers how she used to give a lovely look at her dear children when she put them to sleep and wished them to have sweet dreams before leaving them to meet again the next morning.

The poet, while listening to the repetitive rhythms of the raindrops falling on the roof of his cottage, can feel the presence of his mother around him. He visualizes her affectionate look bending over him. Thus, he presents rain as a bridging force between his present and past.

FAQs on Rain on the Roof Summary

Question 1.
What is the summary of the rain on the roof?

Answer:
The poem ‘Rain on the Roof’ talks about the poet’s varied reactions to the sound of raindrops falling on the roof of his house. He says that the raindrops at night are like tears shed by the sad, dark night.

Question 2.
What is the main theme of the poem rain on the roof?

Answer:
The theme of the poem is the healing power of rain. The musical sound of raindrops falling on the rooftop at night has the ability to revive sweet memories and rouse fancies in an otherwise busy mind. The rain thus soothes and comforts an overworked mind by taking it back to its lovely past.

Question 3.
What appears when the rain falls on the shingles?

Answer:
When the drops of rainfall on shingles, they make a tinkling sound. The tinkling sound echoes his heart. A thousand old memories weave their air-threads into pattering sounds.

Question 4.
Who comes in the memory of the poet in the poem rain on the roof?

Answer:
The single major memory that comes to the poet is that of his mother and her fond look. The “darling dreamers” are the poet and his siblings in their childhood when they were lovingly put to sleep by their mother.

Question 5.
what do we learn from the poem rain on the roof?

Answer:
The poem ‘The Rain on the Roof’ teaches us that like the rain we should find joy and contentment in making people around us happy.

Question 6.
What Is The Theme of Poem Rain on The Roof?

Answer:
The theme of the poem is the healing power of rain. The musical sound of raindrops falling on the rooftop at night has the ability to revive sweet memories and rouse fancies in an otherwise busy mind.

Tatsam-Tadbhav ( तत्सम-तद्भव ) शब्द, परिभाषा, पहचानने के नियम और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

Learn Hindi Grammar online with an example, all the topics are described in an easy way for education.

Tatsam Tadbhav ( तत्सम-तद्भव ) In Hindi PDF Download

Tatsam-Tadbhav ( तत्सम-तद्भव )

तत्सम शब्द

तत्सम शब्द : वैसे शब्द, जो संस्कृत और हिन्दी दोनों भाषाओं में समान रूप से प्रचलित हैं। अंतर केवल इतना है कि संस्कृत भाषा में वे अपने विभक्ति–चिह्नों या प्रत्ययों से युक्त होते हैं और हिन्दी में वे उनसे रहित।

जैसे—
संस्कृत में, कर्पूरः, पर्यङ्कः, फलम्, ज्येष्ठः, हिन्दी में, कर्पूर, पर्यंक, फल, ज्येष्ठ

तद्भव शब्द

तद्भव शब्द : (उससे भव या उत्पन्न) वैसे शब्द, जो तत्सम से विकास करके बने हैं और कई रूपों में वे उनके (तत्सम के) समान नजर आते हैं।

जैसे–
कर्पूर > कपूर
पर्यङ्क > पलंग
अग्नि > आग आदि।

नोट : नीचे तत्सम तद्भव शब्दों की सूची दी जा रही है। इन्हें देखें और समझने की कोशिश करें कि इनमें समानता–असमानता क्या है?

तत्सम – तद्भव

आँसू – अश्रु
इक्षु – ईख
कपूर – कर्पूर
गोधूम – गेहूँ
घोटक – घोड़ा
आम्र – आम
उलूक – उल्लू
काष्ठ – काठ
ग्राम – गाँव
घृणा – घिन
अग्नि – आग
उष्ट्र – ऊँट
कोकिल – कोयल
गर्दभ – गदहा
चर्मकार – चमार
अंध – अंधा
कर्ण – कान
क्षेत्र – खेत
गंभीर – गहरा
चन्द्र – चाँद
ज्येष्ठ – जेठ
धान्य – धान
पत्र – पत्ता
पौष – पूस
भल्लूक – भालू
बट – बड़
श्वशुर – ससुर
श्रेष्ठी – सेठ
सुभाग – सुहाग
सूई – सूची
हास्य – हँसी
कर्म – काम
कूप – कुआँ
स्नेह – नेह
कातर – कायर
लोक – लोग
शिक्षा – सीख
कुठार – कुल्हाड़ा
पक्व – पक्का
शाक – साग
इष्टिका – इट
गणना – गिनती
काक – काग
स्वश्रू – सास
भित्ति – भीत
विष्ठा – बीठ
शर्करा – शक्कर
कज्जल – काजल
अध – आज
दुर्बल – दुबला
उन्मना – अनमना
चित्रक – चीता
कुंभकार – कुम्हार
भीख – भिक्षा
कोटि – करोड़
गात्र – गात
ओष्ठ – होठ
अगम्य – अगम
मालिनी – मालिन
तत्सम – तद्भव
ताम्र – ताँबा
नव्य – नया
प्रस्तर – पत्थर
पौत्र – पोता
मृत्यु – मौत
शय्या – सेज
शृंगाल – सियार
स्तन – थन
स्वामी – साईं
मस्तक – माथा
चंचु – चोंच
हरिद्रा – हल्दी
प्रिय – पिया
अपूप – पूआ
कारवेल – करेला
श्रृंखला – साँकल
मृत्तिका – मिट्टी
चतुष्पादिका – चौकी
पर्यंक – पलंग
अर्द्धतृतीय – ढाई
कूट – कूड़ा
शुष्क – सूखा
खर्पर – खपरा
क्षीर – खीर
चणक – चना
घट – घड़ा
पक्ष – पख/पंख
काया – काय
अंगुष्ट – अँगूठा
सप्त – सात
अक्षत – अच्छत
भाग्नेय – भांजा
भ्रातृ – भाई
यजमान – जजमान
कुष्ठ – कोढ़
धैर्य – धीरज
धूम्र – धुआँ
प्रतिच्छाया
श्रावण – सावन
तैल – तेल
निद्रा – नींद
पीत – पीला
बधिर – बहरा
मित्र – मीत
शत – सौ
शिर – सिर
स्वर्णकार – सुनार
सूर्य – सूरज
हस्त – हाथ
अम्बा – अम्मा
कार्य – काज
जिह्वा – जीभ
आश्रय – आसरा
चूर्ण – चूना
सायम् – साँझ
त्वरित – तुरंत
चटका – चिड़िया
सत्य – सच
सपली – सौत
कपाट – किवाड़
अष्ट – आठ
लक्ष – लाख
श्यामल – साँवला
लाक्षा – लाख
धरती – धरित्री
अक्षर – आखर
वायु – बयार
उच्च – ऊँचा
अवतार – औतार
कुक्कुर – कुकुर
याचक – जाचक
दधि – दही
उपवास – उपास
ग्राहक – गाहक
निर्वाह – निवाह
अट्टालिका – अटारी
आदित्यवार – एतवार
कुक्षि – कोख
दात – दाँत
पद – पैर
पृष्ठ – पीठ
वानर – बन्दर
मुख – मुँह
श्वास – साँस
दश – दस
स्वर्ण – सोना
गौरी – गोरी
हस्ती – हाथी
तिक्त – तीता
चतुर्दश – चौदह
मयूर – मोर
केतक – केवड़ा
सर्षप – सरसों
स्वप्न – सपना
हास – हँसी
उद्वर्तन – उबटन
वचन – बैन
परशु – फरसा
सर्प – साँप
शलाका – सलाई
रात्रि – रात
वत्स – बच्चा
क्षुर – छुरा
दुग्ध – दूध
पूर्णिमा – पूनम
सर्व – सब
मौक्तिक – मोती
आशिष – असीस
चक्रवाक – चकवा
श्वसुराल्य – ससुराल
घृत – घी
कंकण – कंगन
गिद्रध – गिद्ध
भक्त – भगत
कांचन – कंचन
गर्भिणी – गाभिन
यशोदा – जसोदा
चरित्र – चरित
अभीर – अहीर
फाल्गुन – फागुन
श्याली – साली
योद्धा – जोधा
पक्षी – पंछी
अंजलि – अँजुरी
दंतधावन – दातौन
जव – जौ
छिद्र – छेद
शृंगार – सिंगार
यश – जस
जमाता – जमाई
रात्रि – रात

The Fun They Had Summary Analysis and Explanation By Isaac Asimov

Students can also check the English Summary to revise with them during exam preparation. This article covers The Fun They Had Summary.

The Fun They Had Summary Analysis & Explanation By Isaac Asimov

About the Author Isaac Asimov
Isaac Asimov (1920- 1992) was an American writer and professor of biochemistry at Boston University. He was known for his works of science fiction and popular science. Asimov was a prolific writer who wrote or edited more than 500 books and an estimated 90,000 letters and postcards. Isaac Asimov was the Grand Master of the Science Fiction Writers of America, the founder of robot ethics, and one of the world’s most prolific authors of fiction
Isaac Asimov - summary of the fun they had class 9

Author Name Isaac Asimov
Born 2 January 1920, Petrovichi, Russia
Died 6 April 1992, Brooklyn, New York, United States
Short Stories The Last Question, The Fun They Had
Movies I, Robot, Bicentennial Man, Nightfall, The End of Eternity

Very Short Summary of The Chapter The Fun They Had

“The Fun They Had’ by Isaac Asimov is science fiction. It tells the story of two young children named Tommy and Margie who live in the year 2157, where children get an education through computers at their home. One day they come through a printed book and learn something about the school that existed hundreds and hundreds of years ago. It is a matter of great surprise for them because they are living in the age of moving e-texts.

The Fun They Had Summary of the Lesson

It is the year 2157. Margie makes a diary entry which reveals that Tommy has come across a book printed on paper. The pages of the book have turned yellow and wrinkled which proves that it existed centuries ago. The book is peculiar in the sense that it had the same words on it that it had when they read it the first time. They were not moving like that on a computer/television screen.

Tommy calls it waste because once the book is read it is of no use. Their television screen has had a million books on it and one cannot throw it away. Margie is of the same opinion but she is curious to know what the book is about. Tommy tells her that it is about school. She hated school, but now she hated it more than ever because her mechanical teacher had been giving her test after test in geography and she had been doing worse and worse. Her mother sends for the County Inspector who is a round little man.

He takes the television teacher apart and sets it right within an hour which only increases Margie’s disappointment. He tells her mother that it was not Margie’s fault but the geography sector of the mechanical teacher was geared a little too quick and he has slowed that to an average ten-year level. He assures Margie and her mother that there will be no problem henceforth.

Margie is curious to know about the school that existed in the past. Tommy tells her that it is not their kind of school. That is the old kind of school that they had centuries ago. The students had a human teacher who taught them and gave them homework and also asked them questions. Margie argues that a man cannot be smart enough.

Tommy further tells her that the teachers didn’t live in the house. They had a special building and all the kids went there. The kids of the same age learned the same thing. Now it is Margie’s school time. She goes into the schoolroom which is right next to her bedroom and the mechanical teacher is on and waiting for her. She puts her homework in the slot with a sigh.

She is still thinking about the old schools they had when her grandfather’s grandfather was a little boy. All the kids from the whole neighborhood came, laughing and shouting in the schoolyard, sitting together in the schoolroom, going home together at the end of the day. Those schools were far better than the schools of today because they offered great fun to the students.

Anek Shabdon Ke Ek Shabd अनेक शब्दों के लिए एक शब्द ( one word substitution )

ऐसा कहा गया है- “कम–से–कम’ शब्दों में अधिकाधिक भाव या विचार अभिव्यक्त करना अच्छे लेखक अथवा वक्ता का गुण है। इसके लिए ऐसे शब्दों का ज्ञान आवश्यक है जो विभिन्न वाक्यांशों या शब्द–समूहों का अर्थ देते हों। ऐसे शब्दों के प्रयोग से कृति में कसावट आती है और अभिव्यक्ति प्रभावशाली होती है।

एक उदाहरण द्वारा इस बात को और स्पष्टतापूर्वक समझा जा सकता है’यह बात सहन न करने योग्य है’ की जगह पर ‘यह बात असह्य है’ ज्यादा गठा हुआ और प्रभावशाली लगता है। इस प्रकार के शब्दों की रचना उपसर्ग–प्रत्यय एवं समास की सहायता से की जाती है। हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं कि उपसर्ग–प्रत्यय एवं समास की सहायता से नये शब्द बनाए जाते हैं। नीचे कुछ ऐसे ही शब्द दिए जा रहे हैं जो किसी लंबी अभिव्यक्ति के लिए प्रयुक्त होते हैं

Anek Shabdon Ke Ek Shabd (अनेक शब्दों के एक शब्द )

Learn Hindi Grammar online with example, all the topic are described in easy way for education. in This article we cover Anek Shabdon Ke Liye Ek Shabd for Class 10, 9, 8, 7, 6 Students.

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (One Word Substitution) : हिंदी व्याकरण

  • अनेक शब्द – एक शब्द
  • जो क्षमा न किया जा सके – अक्षम्य
  • जहाँ पहुँचा न जा सके – अगम्य
  • जिसे सबसे पहले गिनना उचित हो – अग्रगण्य
  • जिसका जन्म पहले हुआ हो – अग्रज
  • जिसका जन्म बाद/पीछे हुआ हो – अनुज
  • जिसकी उपमा न हो – अनुपम
  • जिसका मूल्य न हो। – अमूल्य
  • जो दूर की न देखे/सोचे – अदूरदर्शी
  • जिसका पार न हो – अपार
  • जो दिखाई न दे – अदृश्य
  • जिसके समान अन्य न हो – अनन्य
  • जिसके समान दूसरा न हो – अद्वितीय
  • ऐसे स्थान पर निवास जहाँ कोई पता न पा सके – अज्ञातवास
  • जो न जानता हो – अज्ञ
  • जो बूढ़ा (पुराना) न हो – अजर
  • जो जातियों के बीच में हो – अन्तर्जातीय
  • आशा से कहीं बढ़कर – आशातीत
  • अधः (नीचे) लिखा हुआ – अधोलिखित
  • कम अक्लवाला – अल्पबुद्धि
  • जो क्षय न हो सके – अक्षय
  • श्रद्धा से जल पीना – आचमन
  • जो उचित समय पर न हो – असामयिक
  • जो सोचा भी न गया हो – अतर्कित
  • जिसका उल्लंघन करना उचित न हो – अनुल्लंघनीय
  • जो लौकिक या सांसारिक प्रतीत न हो। – अलौकिक
  • जो सँवारा या साफ न किया गया हो – अपरिमार्जित
  • आचार्य की पत्नी – आचार्यानी
  • जो अर्थशास्त्र का विद्वान् हो – अर्थशास्त्री
  • अनुवाद करनेवाला – अनुवादक
  • अनुवाद किया हुआ – अनूदित
  • अर्थ या धन से संबंधित – आर्थिक
  • जिसकी तुलना न हो – अतुलनीय
  • जिसका आदि न हो – अनादि
  • जिसका अन्त न हो। – अनन्त
  • जो परीक्षा में पास न हो – अनुत्तीर्ण
  • जो परीक्षा में पास हो – उत्तीर्ण
  • जिसपर मुकदमा हो। – अभियुक्त
  • जिसका अपराध सिद्ध हो – अपराधी
  • जिस पर विश्वास न हो – अविश्वसनीय
  • जो साध्य न हो – असाध्य

 

  • स्वयं अपने को मार डालना – आत्महत्या
  • अपनी ही हत्या करनेवाला – आत्मघाती
  • जो दूसरों का बुरा करे – अपकारी
  • जो पढ़ा–लिखा न हो – अनपढ़
  • जो आयुर्वेद से संबंध रखे – आयुर्वेदिक
  • अंडे से पैदा लेनेवाला – अंडज
  • दूसरे के मन की बात जाननेवाला – अन्तर्यामी
  • दूसरे के अन्दर की गहराई ताड़नेवाला – अन्तर्दर्शी
  • अनेक राष्ट्रों में आपस में होनेवाली बात – अन्तर्राष्ट्रीय
  • जिसका वर्णन न हो सके – अवर्णनीय
  • जिसे टाला न जा सके – अनिवार्य
  • जिसे काटा न जा सके – अकाट्य
  • नकल करने योग्य – अनुकरणीय
  • बिना विचार किए विश्वास करना – अंधविश्वास
  • साधारण नियम के विरुद्ध बात – अपवाद
  • जो मनुष्य के लिए उचित न हो – अमानुषिक
  • जो होने से पूर्व किसी बात का अनुमान करे – अनागतविधाता
  • जिसकी संख्या सीमित न हो – असंख्य
  • इन्द्र की पुरी – अमरावती
  • कुबेर की नगरी – अलकापुरी
  • दोपहर के बाद का समय – अपराह्न
  • पर्वत के ऊपर की समभूमि – अधित्यका
  • जो जाँच या परीक्षा बहुत कठिन हो – अग्नि–परीक्षा
  • जिसे ईश्वर या वेद में विश्वास न हो – नास्तिक
  • जिसे ईश्वर या वेद में विश्वास हो – आस्तिक
  • जिसका नाथ (सहारा) न हो – अनाथ/यतीम
  • जो थोड़ा जानता हो – अल्पज्ञ
  • जो ऋण ले – अधमर्ण
  • जिसे भय न हो – निर्भय/अभय
  • जो कभी मरे नहीं – अमर
  • जिसका शत्रु पैदा नहीं लिया – अजातशत्रु
  • जिस पुस्तक में आठ अध्याय हो – अष्टाध्यायी
  • जो नई चीज निकाले या खोज करे – आविष्कार
  • जो साधा न जा सके – असाध्य
  • किसी छोटे से प्रसन्न हो उसका उपकार करना – अनुग्रह
  • किसी के दुःख से दुखी होकर उसपर दया करना – अनुकम्पा
  • वह हथियार जो फेंककर चलाया जाय – अस्त्र
  • मोहजनित प्रेम – आसक्ति
  • किसी श्रेष्ठ का मान या स्वागत – अभिनन्दन
  • किसी विशेष वस्तु की हार्दिक इच्छा – अभिलापा
  • जिसके आने की तिथि ज्ञात न हो – अतिथि
  • जिसके पार न देखा जा सके – अपारदर्शी
  • जो स्त्री सूर्य भी न देख सके – असूर्यम्पश्या
  • जो नहीं हो सकता – असंभव
  • बढ़ा–चढ़ाकर कहना – अतिशयोक्ति
  • जो अल्प बोलनेवाला है – अल्पभाषी
  • जो स्त्री अभिनय करे – अभिनेत्री
  • जो पुरुष अभिनय करे – अभिनेता
  • बिना वेतन के – अवैतनिक

 

  • आलोचना करनेवाला – आलोचक
  • सिर से लेकर पैर तक – आपादमस्तक
  • बालक से लेकर वृद्ध तक – आबालवृद्ध
  • आलोचना के योग्य – आलोच्य
  • जिसे जीता न जा सके – अजेय
  • न खाने योग्य – अखाद्य
  • आदि से अन्त तक – आद्योपान्त
  • बिना प्रयास के – अनायास
  • जो भेदा या तोड़ा न जा सके – अभेद्य
  • जिसकी आशा न की गई हो – अप्रत्याशित
  • जिसे मापा न जा सके – अपरिमेय
  • जो प्रमाण से सिद्ध न हो – अप्रमेय
  • आत्मा या अपने आप पर विश्वास – आत्मविश्वास
  • दक्षिण दिशा – अवाची
  • उत्तर दिशा – उदीची
  • पूरब दिशा – प्राची
  • पश्चिम दिशा – प्रतीची
  • जो व्याकरण द्वारा सिद्ध न हो – अपभ्रंश
  • झूठा मुकदमा – अभ्याख्यान
  • दो या तीन बार कहना – आमेडित
  • माँ–बहन संबंधी गाली – आक्षारणा
  • बार–बार बोलना – अनुलाप
  • न कहने योग्य वचन – अवाच्य
  • नाटक में बड़ी बहन – अत्तिका
  • दूसरे के गुणों में दोष निकालना – असूया
  • मानसिक भाव छिपाना – अवहित्था
  • जबरन नरक में धकेलना या बेगार – आजू
  • तट का जो भाग जल के भीतर हो – अन्तरीप
  • वह गणित जिसमें संख्याओं का प्रयोग हो – अंकगणित
  • दागकर छोड़ा गया साँड़ – अंकिल
  • आलस्य में अँभाई लेते हुए देह टूटना – अंगड़ाई
  • अंग पोंछने का वस्त्र – अंगोछा
  • पीसे हुए चावल की मिठाई – अँदरसा
  • जिसके पास कुछ भी नहीं हो – अकिंचन
  • जो पासे के खेल में धूर्त हो – अक्षधूर्त
  • निंदा न किया हुआ – अगर्हित

 

  • सेना के आगे लड़नेवाला योद्धा – अग्रयोधा
  • जिसकी चिकित्सा न हो सके – अचिकित्स्य
  • बिना चिन्ता किया हुआ – अचिन्तित
  • प्रसूता को दिया जानेवाला भोजन – अछवानी
  • जिसका जन्म न हो – अज/अजन्मा
  • घर के सबसे ऊपर के खंड की कोठरी – अटारी
  • न टूटने वाला – अटूट
  • ठहाका लगाकर हँसना – अट्टहास
  • अति सूक्ष्म परिमाण – अणिमा
  • व्यर्थ प्रलाप करना – अतिकथा
  • मर्यादा का उल्लंघन करके किया हुआ – अतिकृत
  • जिसका ज्ञान इन्द्रियों के द्वारा न हो – अतिन्द्रिय
  • जो ऊँचा न हो – अतुंग
  • शीघ्रता का अभाव – अत्वरा
  • आज के दिन से पूर्व का काल – अनद्यतनभूत
  • होठों पर चढ़ी पान की लाली – अधरज
  • वह व्यक्ति जिसके एक के ऊपर दूसरा दाँत हो – अधिकदन्ती
  • रथ पर चढ़ा हुआ योद्धा – अधिरथ
  • अध्ययन किया हुआ – अधीत
  • उतरती युवावस्था का – अधेर
  • हित न चाहनेवाला – अनहितू
  • अनुभव प्राप्त – अनुभवी
  • प्रेम उत्पन्न करनेवाला – अनुरंजक
  • जल से परिपूर्ण – अनूप
  • जिसके जल का प्रवाह गुप्त हो – अन्तस्सलिल
  • दूध पिलानेवाली धाय – अन्ना
  • देह का दाहिना भाग – अपसव्य
  • जिसकी आकृति का कोई और न मिले – अप्रतिरूप
  • स्वर्ग की वेश्या – अप्सरा
  • शाप दिया हुआ – अभिशप्त
  • इन्द्रपुरी की वेश्या – अमरांगना
  • पानी भरनेवाला – अम्बुवाह
  • लोहे का काम करनेवाला – लोहार
  • असम्बद्ध विषय का – अविवक्षित
  • आठ पदवाला – अष्टपदी
  • धूप से बचने का छाता – आतपत्र
  • बंधक रखा हुआ – आधीकृत
  • विपत्ति के समय विधान करने का धर्म – आपद्धर्म
  • तुलना द्वारा प्राप्त – आपेक्षिक
  • दर्पण जड़ी अंगूठी, जिसे स्त्रियाँ अँगूठे में पहनती हैं – आरसी
  • भारतवर्ष का उत्तरी भाग – आर्यावर्त
  • घर के सामने का मंच – आलिन्द
  • मंत्र–द्वारा देवता को बुलाना – आवाहन
  • उत्कंठा सहित मन का वेग – आवेग
  • वृक्षों को जल से थोड़ा सींचना – आसेक
  • अनुमान किया हुआ – अनुमानित

 

  • जिसका दूसरा उपाय न हो – अनन्योपाय
  • जिसका अनुभव किया गया हो – अनुभूत
  • जो जन्म लेते ही मर जाय – आदण्डपात
  • जो शोक करने योग्य न हो – अशोच्य
  • महल के भीतर का भाग – अन्तःपुर
  • अनिश्चित जीविका – आकाशवृत्ति
  • जिस पेड़ के पत्ते झड़ गए हों – अपर्ण
  • उच्च वर्ण के पुरुष के साथ निम्न वर्ण की स्त्री का विवाह – अनुलोम विवाह
  • जिसका पति आया हुआ है – आगत्पतिका
  • जिसका पति आनेवाला है – आगमिष्यत्पतिका
  • बच्चे को पहले–पहल अन्न खिलाना – अन्नप्राशन
  • आम का बगीचा – अमराई
  • राजा का बगीचा – आक्रीड
  • अनुसंधान की इच्छा – अनुसंधित्सा
  • किसी के शरीर की रक्षा करनेवाला – अंगरक्षक
  • किसी को भय से बचाने का वचन देना – अभयदान
  • चोट खाया हुआ – आहत
  • जिसे पान करने से अमर हो जाय – अमृत
  • जिसका अनुभव किया जा सके – अनुभवजन्य
  • जो अपमानित हो चुका हो – अनादृत
  • अभिनय करने योग्य – अभिनेय
  • उपासना करने योग्य – उपास्य
  • ऐसी भूमि जो उपजाऊ नहीं हो – ऊसर
  • जो इन्द्रियों के बाहर हो – इन्द्रियातीत
  • जो उड़ा जा रहा हो – उड्डीयमान
  • नई योजना का सर्वप्रथम काम में लाने का उत्सव – उद्घाटन
  • भूमि को भेदकर निकलनेवाला – उद्भिद्
  • तिनकों से बना घर – उटज
  • जो छाती के बल चले – उरग
  • ऊपर जानेवाला – ऊर्ध्वगामी
  • ऊपर गया हुआ – ऊर्ध्वगत
  • लाली मिल हुआ काले रंग का – ऊदा
  • छाती का घाव – उरक्षत
  • अन्य देश का पुरुष – उपही
  • आकाश से तारे का टूटना – उपप्लव
  • गरमी से उत्पन्न – उष्मज
  • स्वप्न में बकझक करना – उचावा
  • उभरा या लाँधा हुआ – उत्क्रान्त
  • दो दिशाओं के बीच की दिशा – उपदिशा
  • अँगुलियों में होनेवाला फोड़ा – इकौता
  • त्वचा के ऊपर निकला हुआ मस्सा – इल्ला
  • गर्भिणी स्त्री की लालसा – उकौना

 

  • जो बहुत कुछ जानता हो – बहुज्ञ
  • नीचे लिखा हुआ – निम्नलिखित
  • ऊपर कहा गया। – उपर्युक्त
  • बुरी बुद्धिवाला – कुबुद्धि
  • चारों ओर चक्कर काटना – परिक्रमा
  • जिसका कोई आसरा न हो – निराश्रित
  • जिसमें विष न हो – निर्विष
  • जिसका धव (पति) मर गया हो – विधवा
  • जिसका पति जीवित हो – सधवा
  • जो बरतन बेचने का काम करे – कसेरा
  • जिसे कर्तव्य न सूझ रहा हो – किं – कर्त्तव्यविमूढ़
  • जो तीनों कालों की बात जानता हो – त्रिकालज्ञ
  • पन्द्रह दिनों का समूह – पक्ष
  • पढ़नेवाला – पाठक
  • बाँचनेवाला – वाचक
  • सुननेवाला – श्रोता
  • बोलनेवाला – वक्ता
  • लिखनेवाला – लेखक
  • लेख की नकल – प्रतिलिपि
  • जो सब देशों का हो – सार्वदेशिक
  • जो आँखों के सामने हो – प्रत्यक्ष
  • जानने की इच्छा – जिज्ञासा
  • जानने को इच्छुक/इच्छावाला – जिज्ञासु
  • जिसे प्यास लगी हो – पिपासु/प्यासा
  • जो मीठा बोले – मधुरभाषी
  • जो देर तक स्मरण के योग्य हो – चिरस्मरणीय
  • समाज से संबंध रखनेवाला – सामाजिक
  • केवल फल खाकर रहनेवाला – फलाहारी
  • जो शाक–सब्जी खाए – शाकाहारी
  • शासन हेतु नियमों का समूह – संविधान
  • जो चाँदी–जैसा सफेद हो – परुहला
  • सोने–जैसे रंगवाला – सुनहला
  • दस वर्षों का समूह – दशक
  • सौ वर्षों का समूह – शताब्दी
  • जिसके होश ठिकाने न हो – मदहोश
  • लेने की इच्छा – लिप्सा
  • जी बहुत बातें बनाए – बातूनी
  • जो नाप–तौलकर खर्च करे – मितव्ययी
  • व्याकरण जाननेवाला – वैयाकरण
  • जिसे तनिक भी लज्जा न हो – निर्लज्ज
  • शिव का उपासक – शैव
  • विष्णु का उपासक – वैष्णव
  • शक्ति का उपासक – शाक्त
  • जो तत्त्व सदा रहे – शाश्वत
  • जो जिन के मत को माने – जैनी
  • जो बुद्ध के मत को माने – बौद्ध
  • विनोबा के मत को माननेवाला – सर्वोदयी
  • जो बात साफ–साफ करे – स्पष्टवादी
  • इतिहास से संबंधित – ऐतिहासिक
  • जो कठिनाई से साधा जाय – दुःसाध्य
  • जो सुगमता से साधा जाय – सुसाध्य
  • जो आसानी से मिल जाय – सुलभ
  • जो कठिनाई से मिले – दुर्लभ
  • जिसका जवाब न हो – लाजवाब
  • जिसका इलाज न हो – लाइलाज
  • जो हर काम देर से करे – दीर्घसूत्री
  • जो किसी काम की जिम्मेदारी ले – जवाबदेह
  • हाथ की लिखी पुस्तक या मसौदा – पांडुलिपि
  • पूर्वी देशों से संबंध रखनेवाला – पूर्वीय
  • जो तरह–तरह के रूप बना सके – बहुरूपिया
  • कम बोलनेवाला – मितभाषी

 

  • जो किसी की ओर से बोले – प्रवक्ता
  • दो बातों या कामों में से एक – वैकल्पिक
  • गिरने से कुछ ही बची इमारत – ध्वंसावशेष
  • वीर पुत्रों को जन्म देनेवाली – वीरप्रसूता
  • वीरों द्वारा भोगी जानेवाली – वीरभोग्या
  • जिसके गर्भ में रत्न हो – रत्नगर्भा
  • जो सबको समान रूप से देखे – समदर्शी
  • जो सब जगह व्याप्त हो। – सर्वव्यापक
  • जो रोग एक से दूसरे को हो – संक्रामक
  • जो दो बार जन्म ले – द्विज
  • पिता से प्राप्त सम्पत्ति आदि – पैतृक
  • जो अपनी इच्छा से सेवा करे – स्वयंसेवक
  • गोद ली संतान – दत्तक
  • भूगोल से संबंध रखनेवाला – भौगोलिक
  • पृथ्वी से संबंध रखनेवाला – पार्थिव
  • साधारण लोगों में कही जानेवाली बात – किंवदंती
  • किसी कलाकार की कलापूर्ण रचना – कलाकृति
  • लोगों में परंपरा से चली आई कथा – दन्तकथा
  • जिसका नाश अवश्यंभावी हो – नश्वर
  • जो पुराणों से संबंध रखता हो – पौराणिक
  • जो वेदों से संबंध रखता हो – वैदिक
  • जिसका जन्म पसीने से हो – स्वेदज
  • जेर से उत्पन्न होनेवाला – जरायुज
  • विमान चलानेवाला – वैमानिक

 

  • सबके साथ मिलकर गाया जानेवाला गान – सहगान
  • जो सब कालों में एक समान हो – सार्वकालिक
  • जो सम्पूर्ण लोक में हो – सार्वलैकिक
  • जिसका उदाहरण दिया गया हो – उदाहृत
  • जिसका उद्धरण दिया गया हो – उद्धृत
  • जिस स्त्री के सन्तान न होती हो – बाँझ
  • शिव के गण – प्रमथ
  • शिव के धनुष – पिनाक
  • जहाँ शिव का निवास है – कैलाश
  • इन्द्र का सारथि – मातलि
  • इन्द्र का घोड़ा – उच्चैःश्रवा
  • इन्द्र का पुत्र – जयन्त
  • इन्द्र का बाग – नन्दन
  • इन्द्र का हाथी – ऐरावत
  • ईश्वर या स्वर्ग का खजाँची – कुबेर
  • मध्य रात्रि का समय – निशीथ
  • लताओं से आच्छादित रमणीय स्थान – निकुंज
  • सीपी, बाँसी, सूकरी, करी, धरी और नरसल से बनी माला – बैजयन्तीमाला
  • मरने के करीब – मुमूर्षु/मरणासन्न
  • पर्वत के नीचे की समभूमि (तराई) – उपत्यका
  • जहाँ नाटक का अभिनय किया जाय – रंगमंच
  • जिस सेना में हाथी, घोड़े, रथी और पैदल हों – चतुरंगिणी
  • जो काम कठिन हो – दुष्कर
  • दिन में होनेवाला – दैनिक

 

  • किए गए उपकार को माननेवाला – कृतज्ञ
  • किए गए उपकार को न माननेवाला – कृतघ्न
  • जिसका रूप अच्छा हो – सुरूप
  • अच्छा बोलनेवाला – वाग्मी/सुवक्ता
  • बुरे मार्ग पर चलनेवाला – कुमार्गगामी
  • जिसका आचरण अच्छा हो – सदाचारी
  • जिसका आचरण अच्छा नहीं हो – दुराचारी
  • जिसमें दया हो – दयालु
  • जिसमें दया नहीं हो – निर्दय
  • जो प्रशंसा के योग्य हो – प्रशंसनीय
  • जिसमें कपट न हो – निष्कपट
  • जिसमें कोई विकार न आता हो – निर्विकार
  • समान समय में होनेवाला – समसामयिक
  • जो आकाश में विचरण करे – खेचर
  • वह पहाड़ जिससे आग निकले – ज्वालामुखी
  • जो मोह नहीं करता है – निर्मोही
  • जो प्रतिदिन नहाता हो – नित्यस्नायी
  • मोक्ष या मुक्ति की इच्छा रखनेवाला – मुमुक्षु
  • जो राजा/राज्य से द्रोह करे – राजद्रोही
  • किसी का पक्ष लेनेवाला – पक्षपाती
  • इतिहास को जाननेवाला – इतिहासज्ञ
  • पाप करने के अनन्तर स्वयं दंड पाना – प्रायश्चित
  • जिस शब्द के दो अर्थ हों – श्लिष्ट
  • अपना नाम स्वयं लिखना – हस्ताक्षर
  • जो सबको प्रिय हो – सर्वप्रिय
  • जो हमेशा बदलता रहे – परिवर्तनशील
  • अपना मतलब साधनेवाला – स्वार्थी
  • कुसंगति के कारण चरित्र पर दोष – कलंक
  • सतो गुण का – सात्त्विक
  • रजो गुण का – राजसिक
  • तमो गुण का – तामसिक

 

  • नीति को जाननेवाला – नीतिज्ञ
  • महान् व्यक्तियों की मृत्यु – निधन
  • व्यक्तिगत आजादी – स्वतंत्रता
  • सामूहिक आजादी – स्वाधीनता
  • जिसके आर–पार देखा जा सके – पारदर्शी
  • जिसकी गर्दन सुन्दर हो – सुग्रीव
  • अनुचित बातों के लिए आग्रह – दुराग्रह
  • जो नया आया हुआ हो – नवागन्तुक
  • जो नया जन्म हुआ हो – नवजात
  • जो तुरंत जन्मा है – सद्यःजात
  • जो अच्छे कुल में जन्म ले – कुलीन
  • जो बहुत बोले – वाचाल
  • इन्द्रियों को जीतनेवाला – जितेन्द्रिय
  • नींद पर विजय प्राप्त करनेवाला – गुडाकेश
  • जो स्त्री के स्वभाव का हो – स्त्रैण
  • जो क्षमा पाने के लायक हो – क्षम्य
  • जो अत्यन्त कष्ट से निवारित हो – दुर्निवार
  • जो वचन से परे हो – वचनातीत
  • जो सरों (तालाब) में जन्म ले – सरसिज,
  • जो मुकदमा लड़ता हो – मुकदमेबाज
  • जो देने योग्य हो – प्रहरी/पहरेदार
  • जो पहरा देता है – सत्याग्रह
  • सत्य के लिए आग्रह – वादी/मुद्दई
  • जो मुकदमा दायर करे – संगीतज्ञ
  • जो संगीत जानता हो – कलाविद्
  • जो कला जानता हो लौटकर आया हुआ – प्रत्यागत
  • जो जन्म से अंधा हो – जन्मान्ध
  • जो पोत युद्ध के लिए हो – युद्धपोत
  • जो शत्रु की हत्या करे – शत्रुघ्न
  • जो पिता की हत्या करे – पितृहंता
  • जो माता की हत्या करे – मातृहन्ता
  • जो पत्नी की हत्या करे – पत्नीहंता
  • गृह बसाकर रहनेवाला – गृहस्थ
  • जो विज्ञान जानता है – वैज्ञानिक
  • बिना अंकुश का – निरंकुश
  • बिक्री करनेवाला – विक्रेता

 

  • हृदय का विदारण करनेवाला – हृदय–विदारक
  • धन देनेवाला – धनद
  • प्राण देनेवाली – प्राणदा
  • यश देनेवाली – यशोदा
  • जो किसी विषय को विशेष रूप से जाने – विशेषज्ञ
  • गगन चूमनेवाला – गगनचुंबी
  • जो मन को हर ले – मनोहर
  • जो सबसे प्रिय हो – प्रियतम
  • याचना करनेवाला – याचक
  • जो देखने योग्य हो – दर्शनीय
  • जो पूछने योग्य हो – प्रष्टव्य
  • जो करने योग्य हो – कर्तव्य
  • जो सुनने योग्य हो – पूजनीय
  • जो सुनने योग्य हो – श्रव्य
  • जो तर्क द्वारा सम्मत हो – तर्कसम्मत
  • जो पढ़ने योग्य हो – पठनीय
  • जंगल की आग – दावानल
  • पेट या जठर की आग – जठरानल
  • समुद्र की आग – वडवानाल
  • जो राजगद्दी का अधिकारी हो – युवराज
  • रात और संध्या के बीच की बेला – गोधूलि
  • पुत्र की वधू – पुत्रवधू
  • पुत्र का पुत्र – पौत्र
  • जहाँ खाना (भोजन) मुफ्त मिले – सदाव्रत
  • जहाँ दवा दान स्वरूप मिले – दातव्य औषधालय
  • जो व्याख्या करे – व्याख्याता
  • जो पांचाल देश की हो – पांचाली
  • द्रुपद की पुत्री – द्रौपदी
  • जो पुरुष लोहे की तरह बलिष्ठ हो – लौहपुरुष
  • युग का निर्माण करनेवाला – युगनिर्माता
  • यात्रा करनेवाला – यात्री
  • तेजी से चलने वाला – द्रुतगामी

 

  • जिसकी बुद्धि झट सोच ले – प्रत्युत्पन्नमति
  • जिसकी बुद्धि कुश के अग्रभाग में समान हो – कुशाग्रबुद्धि
  • वह, जिसकी प्रतिज्ञा दृढ़ हो – दृढ़ प्रतिज्ञ
  • जिसने चित्त किसी विषय में दिया है – दत्तचित्त
  • जिसका तेज निकल गया है – निस्तेज
  • जीतने की इच्छा – जिगीषा
  • लाभ की इच्छा/पाने की इच्छा – लिप्सा
  • खाने की इच्छा – बुभुक्षा
  • किसी काम में दूसरे से बढ़ने की इच्छा – स्पर्धा
  • जान से मारने की इच्छा – जिघांसा
  • देखने की इच्छा – दिदृक्षा
  • करने की इच्छा – चिकीर्षा
  • तरने की इच्छा – तितीर्षा
  • जीने की इच्छा – जिजीविषा
  • मेघ की तरह गरजनेवाला – मेघनाद
  • पीने की इच्छा – पिपासा
  • वासुदेव के पिता – वसुदेव
  • विष्णु का शंख – पाञ्चजन्य
  • विष्णु का चक्र – सुदर्शन
  • विष्णु की गदा – कौमोदकी
  • विष्णु की तलवार – नन्दक
  • विष्णु का मणि – कौस्तुभ
  • विष्णु का धनुष – शांर्ग
  • विष्णु का सारथि – दारुक
  • विष्णु का छोटा भाई – गद
  • शिव की जटाएँ – कपर्द
  • इन्द्र का महल – वैजयन्त
  • वर्षा सहित तेज हवा – झंझावात
  • कुबेर का बगीचा – चैत्ररथ
  • कुबेर का पुत्र – नलकूबर
  • कुबेर का विमान – पुष्पक
  • अगस्त्य की पत्नी – लोपामुद्रा
  • अँधेरी रात – तमिम्रा
  • सोलहो कलाओं से युक्त चाँद – राका
  • अशुभ विचार – व्यापाद
  • मनोहर गन्ध – परिमल
  • दूर से मन को आकर्षित करनेवाली गंध – निर्हारी
  • मुख को सुगंधित करनेवाला पान – मुखवासन
  • कच्चे मांस की गंध – विम्न
  • कमल के समान गहरा लाल रंग – शोण
  • सफेदी लिए हुए लाल रंग – पाटल
  • काला पीला मिला रंग – कपिश
  • दुःख, भय आदि के कारण उत्पन्न ध्वनि – काकु
  • झूठी प्रशंसा करना – श्लाघा
  • वस्त्रों या पत्तों की रगड़ से उत्पन्न आवाज – मर्मर
  • पक्षियों का कलरव – वाशित
  • बिना तार की वीणा – कोलंबक
  • नाटक का आदरणीय पात्र – मारिष
  • धोखायुक्त बात–चीत – विप्रलम्भ
  • पानी से उठा हुआ किनारा – पुलिन
  • बालुकामय किनारा – सैकत

 

  • नाव से पार करने योग्य नदी – नाव्य
  • मछली रखने का पात्र – कुवेणी
  • मछली मारने का काँटा – वडिश
  • अंडों से निकली छोटी मछलियों का समूह – पोताधान
  • केंचुए की स्त्री – शिली
  • कुएँ की जगत – वीनाह
  • तीन प्रहरों वाली रात – त्रियामा
  • वृद्धावस्था से घिरा हुआ – जराक्रान्त
  • खाली या रिक्त करानेवाला – रिक्तक/रेचक
  • सिर पर धारण करने योग्य – शिरोधार्य
  • जिसका दमन करना कठिन हो – दुर्दम्य
  • जिसको लाँघना कठिन हो – दुर्लध्य
  • जो पापरहित हो – निष्पाप
  • सब कुछ खानेवाला – सर्वभक्षी
  • जो सहज रूप से न पचे (देर से पचने वाला) – गुरुपाक
  • जो दिन में एकबार आहार करे – एकाहारी
  • जो अपने से उत्पन्न हुआ हो – स्वयंभू
  • जो शत्रु की हत्या करे – शत्रुघ्न
  • बहुत–सी भाषाओं को बोलनेवाला – बहुभाषा–भाषी
  • बहुत सी भाषाओं को जाननेवाला – बहुभाषाविद्
  • रोंगटे खड़े करनेवाला – लोमहर्षक
  • जिसकी पत्नी साथ नहीं हो – विपत्नीक
  • ‘जिस समय मुश्किल से भिक्षा भी मिले – दुर्भिक्ष
  • हाथ की सफाई – हस्तलाघव
  • पके हुए अन्न की भिक्षा – मधुकरी
  • किसी के पास रखी हुई दूसरे की सम्पत्ति – थाती/न्यास
  • पर्दे में रहनेवाली नारी – पर्दानशीं
  • जो विषय विचार में आ जाय – विचारागम्य
  • लम्बी भुजाओं वाला – दीर्घबाहु
  • जिसका घर्षण कठिनता से हो – दुर्घर्ष
  • जिसके दोनों ओर जल है – दोआव
  • वर्षा के जल से पालित। – देवमातृक
  • पृथ्वी को धारण करनेवाला – महीधर
  • जो सम नहीं है, उसे सम करना – समीकरण
  • जिसे मन पवित्र मानता है – मनःपूत
  • अस्तित्वहीन वस्तु का विश्लेषण – काकदन्तपरीक्षण
  • बेरों के जंगल में जनमा – बादगयण
  • केवल वर्षा पर निर्भर – बारानी
  • अधिक रोएँ वाला – लोमश
  • द्वीप में जनमा – द्वैपायन
  • जिसके सिर पर बाल न हो – खल्वाट
  • जो प्रायः कहा जाता है – प्रायोवाद
  • सोना, चाँदी पर किया गया रंगीन काम – मीनाकारी
  • जिसके सभी दाँत झड़ चुके हों – पोपला
  • पूर्णिमा की रात – राका
  • अमावस्या की रात – कुहू
  • पुत्री का पुत्र – दौहित्र/नाती
  • इस्लाम पर विश्वास न करनेवाला – काफिर
  • ईश्वर द्वारा भेजा गया दूत – पैगम्बर
  • कलम की कमाई खानेवाला – मसिजीवी
  • कुएँ के मेढ़क के समान संकीर्ण बुद्धिवाला – कूपमंडुक
  • काला पानी की सजा पाया कैदी – दामुल कैदी
  • किसी काम में दखल देना – हस्तक्षेप
  • गणपति का उपासक – गाणपत्य
  • घास खानेवाला – तृणभोजी

 

  • स्थिर रहनेवाली वस्तु – स्थावर
  • छोटी चीज को बड़ी दिखानेवाला यंत्र – खुर्दबीन
  • जवाहर बेचने/परखने वाला – जौहरी
  • जहाँ से गंगा निकली – गंगोत्री
  • जल में रहनेवाली सेना – नौसेना
  • जहाँ किताबें छपती हैं – छापाखाना
  • जहाँ रुपये ढाले जाते हैं – टकसाल
  • जहाँ घोड़े बाँधे जाते हैं – घुड़साल
  • जिसको पूर्व जन्म की बातें याद हैं – जातिस्मर
  • जिसके आधार पर रास्ता आनंदपूर्ण हो – संबल
  • जिसपर चित्र बनाया जाय – चित्रपट
  • जिसके द्वारा चित्र बनाया जाय – तूलिका
  • जिसके नाखून सूप के समान हो – शूर्पणखा
  • जिस नारी की बोली कठोर हो – कर्कशा
  • जिसका आशय महान् हो – महाशय
  • जिसका यौवन क्षत नहीं हुआ – अक्षत यौवन
  • जिसे एक ही सन्तान होकर रह जाय – काकबन्ध्या
  • जिसे जीवन से विराग हो गया हो – वीतरागी
  • जिसकी सृष्टि की गई हो – बड़भागी
  • जिसका भाग्य बड़ा हो – परीक्षित
  • जिसकी परीक्षा ली जा चुकी हो – विश्वंभर
  • जो विश्वभर का भरण–पोषण करे – क्लीव
  • जो पुरुषत्वहीन हो जिसकी राह गलत हो – गुमराह
  • जो बहुत छोटा न हो – नातिलघु
  • जो प्रकाशयुक्त हो – भास्वर
  • जिसके अंग–प्रत्यंग गल गए हों – गलितांग
  • जिसकी इच्छा न की जाती हो – अनभिलषित
  • जिसके दर्शन प्रिय माने जाएँ – प्रियदर्शन

वाक्य – वाक्य की परिभाषा, भेद और उदाहरण : हिन्दी व्याकरण

Vakya in Hindi

वाक्य की परिभाषा (Vakya Ki Paribhasha), Bhed, Udaharan

भाषा हमारे भावों-विचारों की अभिव्यक्ति का माध्यम है। भाषा की रचना वर्णों, शब्दों और वाक्यों से होती है। दूसरे शब्दों में वर्णों से शब्द, शब्दों से वोक्य और वाक्यों से भाषा का निर्माण हुआ है। इस प्रकार वाक्य शब्दों के समूह का नाम है, लेकिन सभी प्रकार के शब्दों को एक स्थान पर रखकर वाक्य नहीं बना सकते हैं।

Learn Hindi Grammar online with example, all the topic are described in easy way for education.

वाक्य की परिभाषा शब्दों का वह व्यवस्थित रूप जिसमें एक पूर्ण अर्थ की प्रतीति होती है, वाक्य कहलाता है। आचार्य विश्वनाथ ने अपने ‘साहित्यदर्पण’ में लिखा है

“वाक्यं स्यात् योग्यताकांक्षासक्तियुक्तः पदोच्चयः।”

अर्थात् योग्यता, आकांक्षा, आसक्ति से युक्त पद समूह को वाक्य कहते हैं।

वाक्य के तत्त्व
वाक्य के तत्त्व निम्न हैं-

1. सार्थकता सार्थकता वाक्य का प्रमुख गुण है। इसके लिए आवश्यक है कि वाक्य में सार्थक शब्दों का ही प्रयोग हो, तभी वाक्य भावाभिव्यक्ति के लिए सक्षम होगा; जैसे-राम रोटी पीता है।। यहाँ ‘रोटी पीना’ सार्थकता का बोध नहीं कराता, क्योंकि रोटी खाई जाती है। सार्थकता की दृष्टि से यह वाक्य अशुद्ध माना जाएगा। सार्थकता की दृष्टि से सही वाक्य होगा-राम रोटी खाता है। इस वाक्य को पढ़ते ही पाठक के मस्तिष्क में वाक्य की सार्थकता उपलब्ध हो जाती है। कहने का आशय है कि वाक्य का यह तत्त्व वाक्य रचना की दृष्टि से अनिवार्य है। इसके अभाव में अर्थ का अनर्थ सम्भव है।

2. क्रम क्रम से तात्पर्य है-पदक्रम। सार्थक शब्दों को भाषा के नियमों के अनुरूप क्रम में रखना चाहिए। वाक्य में शब्दों के अनुकूल क्रम के अभाव में अर्थ का अनर्थ हो जाता है; जैसे-नाव में नदी है। इस वाक्य में सभी शब्द सार्थक हैं, फिर भी क्रम के अभाव में वाक्य गलत है। सही क्रम करने पर नदी में नाव है वाक्य बन जाता है, जो शुद्ध है।

3. योग्यता वाक्य में सार्थक शब्दों के भाषानुकूल क्रमबद्ध होने के साथ-साथ उसमें योग्यता अनिवार्य तत्त्व है। प्रसंग के अनुकूल वाक्य में भावों का बोध कराने वाली योग्यता या क्षमता होनी चाहिए। इसके अभाव में वाक्य अशुद्ध हो जाता है; जैसे-हिरण उड़ता है। यहाँ पर हिरण और उड़ने की परस्पर योग्यता नहीं है, अत: यह वाक्य अशुद्ध है। यहाँ पर उड़ता के स्थान पर चलता या दौड़ता लिखें तो वाक्य शुद्ध हो जाएगा।

4. आकांक्षा आकांक्षा का अर्थ है-श्रोता की जिज्ञासा। वाक्य भाव की दृष्टि से इतना पूर्ण होना चाहिए कि भाव को समझने के लिए कुछ जानने की इच्छा या आवश्यकता न हो, दूसरे शब्दों में, किसी ऐसे शब्द या समूह की कमी न हो जिसके बिना अर्थ स्पष्ट न होता हो। उदाहरण के लिए कोई व्यक्ति हमारे सामने आए और हम केवल उससे ‘तुम’ कहें तो वह कुछ भी नहीं समझ पाएगा। यदि कहें कि अमुक कार्य करो तो वह पूरी बात समझ जाएगा। इस प्रकार वाक्य का आकांक्षा तत्त्व अनिवार्य है।

5. आसक्ति आसक्ति का अर्थ है-समीपता। एक पद सुनने के बाद उच्चारित अन्य पदों के सुनने के समय में सम्बन्ध, आसक्ति कहलाता है। यदि उपरोक्त सभी बातों की दृष्टि से वाक्य सही हो, लेकिन किसी वाक्य का एक शब्द आज, एक कल और एक परसों कहा जाए तो उसे वाक्य नहीं कहा जाएगा। अतएव वाक्य के शब्दों के उच्चारण में समीपता होनी चाहिए। दूसरे शब्दों में, पूरे वाक्य को एक साथ कहा जाना चाहिए।

6. अन्वय अन्वय का अर्थ है कि पदों में व्याकरण की दृष्टि से लिंग, पुरुष, वचन, कारक आदि का सामंजस्य होना चाहिए। अन्वय के अभाव में भी वाक्य अशुद्ध हो जाता है। अत: अन्वय भी वाक्य का महत्त्वपूर्ण तत्त्व है; जैसे-नेताजी का लड़का का हाथ में बन्दूक था। इस वाक्य में भाव तो स्पष्ट है लेकिन व्याकरणिक सामंजस्य नहीं है। अत: यह वाक्य अशुद्ध है।यदि इसे नेताजी के लड़के के हाथ में बन्दूक थी, कहें तो वाक्य व्याकरणिक दृष्टि से शुद्ध होगा।

वाक्य के अंग वाक्य के अंग निम्न प्रकार हैं-
1. उद्देश्य वाक्य में जिसके बारे में कुछ बताया जाता है, उसे उद्देश्य कहते हैं;

जैसे-

  • राम खेलता है। (राम-उद्देश्य)
  • श्याम दौड़ता है। (श्याम-उद्देश्य)

उपरोक्त वाक्यों में राम और श्याम के विषय में बताया गया है। अत: राम और श्याम यहाँ उद्देश्य रूप में प्रयुक्त हुए हैं।

2. विधेय वाक्य में उद्देश्य के बारे में जो कुछ कहा जाता है, उसे विधेय कहते हैं;

जैसे-

  • बच्चे फल खाते हैं। (फल खाते हैं-विधेय)
  • राहुल क्रिकेट मैच देख रहा है। (क्रिकेट मैच देख रहा है-विधेय)

उपरोक्त वाक्यों में फल खाते हैं और क्रिकेट मैच देख रहा है वाक्यांश क्रमशः बच्चे तथा राहुल के बारे में कहे गए हैं। अतः स्थूलांकित वाक्यांश विधेय रूप में प्रयुक्त हुए हैं।

वाक्यों का वर्गीकरण
वाक्यों का वर्गीकरण दो आधारों पर किया गया है

1. रचना के आधार पर
रचना के आधार पर वाक्य तीन प्रकार के होते हैं-
(i) सरल वाक्य वे वाक्य जिनमें एक उद्देश्य तथा एक विधेय हो। सरल या साधारण वाक्य कहलाते हैं। जैसे-श्याम खाता है। इस वाक्य में एक ही कर्ता (उद्देश्य) तथा एक ही क्रिया (विधेय) है। अत: यह वाक्य सरल या साधारण वाक्य है।

(ii) मिश्र वाक्य वे वाक्य, जिनमें एक साधारण वाक्य हो तथा उसके अधीन या आश्रित दूसरा उपवाक्य हो, मिश्र वाक्य कहलाते हैं। जैसे-श्याम ने लिखा है, कि वह कल आ रहा है। वाक्य में श्याम ने लिखा है-प्रधान उपवाक्य, वह कल आ रहा है आश्रित उपवाक्य है तथा दोनों समुच्चयबोधक अव्यय ‘कि’ से जुड़े हैं, अत: यह मिश्र वाक्य है।

(iii) संयुक्त वाक्य वे वाक्य, जिनमें एक से अधिक प्रधान उपवाक्य हों (चाहे वह मिश्र वाक्य हों या साधारण वाक्य) और वे संयोजक अव्ययों द्वारा जुड़े हों, संयुक्त वाक्य कहलाते हैं। जैसे-वह लखनऊ गया और शाल ले आया। इस वाक्य में दोनों ही प्रधान उपवाक्य हैं तथा और संयोजक द्वारा जुड़े हैं। अत: यह संयुक्त वाक्य है।

रचना के आधार पर वाक्य के भेद एवं उनकी पहचान नीचे दी गई तालिकानुसार समझी जा सकती है।
Vakya Hindi Grammar for Class 10, 9

2. अर्थ के आधार पर अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते हैं-
(i) विधिवाचक वाक्य वे वाक्य जिनसे किसी बात या कार्य के होने का बोध होता है, विधिवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • श्याम आया।
  • तुम लोग जा रहे हो।

(ii) निषेधवाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी बात या कार्य के न होने अथवा इनकार किए जाने का बोध होता है, निषेधवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • राम नहीं पढ़ता है।
  • मैं यह कार्य नहीं करूँगा आदि।

(iii) आज्ञावाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी प्रकार की आज्ञा का बोध होता है, आज्ञावाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • श्याम पानी लाओ।
  • यहीं बैठकर पढ़ो आदि।

(iv) विस्मयवाचक वाक्य वे वाक्य जिनसे किसी प्रकार का विस्मय, हर्ष, दुःख, आश्चर्य आदि का बोध होता है, विस्मयवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • अरे! वह उत्तीर्ण हो गया।
  • अहा! कितना सुन्दर दृश्य है आदि।

(v) सन्देहवाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी प्रकार के सन्देह या भ्रम का बोध होता है, सन्देहवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • वह अब जा चुका होगा।
  • महेश पढ़ा-लिखा है या नहीं आदि।

(vi) इच्छावाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी प्रकार की इच्छा या कामना का बोध होता है, इच्छावाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • ईश्वर आपकी यात्रा सफल करे।
  • आप जीवन में उन्नति करें।
  • आपका भविष्य उज्ज्वल हो आदि।

(vii) संकेतवाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी प्रकार के संकेत या इशारे का बोध होता है, संकेतवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • जो परिश्रम करेगा वह सफल होगा।
  • अगर वर्षा होगी तो फसल भी अच्छी होगी आदि।

(viii) प्रश्नवाचक वाक्य वे वाक्य, जिनसे किसी प्रश्न के पूछे जाने का बोध होता है, प्रश्नवाचक वाक्य कहलाते हैं;

जैसे-

  • आपका क्या नाम है?
  • तुम किस कक्षा में पढ़ते हो? आदि।

उपवाक्य
जिन क्रियायुक्त पदों से आंशिक भाव व्यक्त होता है, उन्हें उपवाक्य कहते हैं;

जैसे-

  • यदि वह कहता
  • यदि मैं पढ़ता
  • यद्यपि वह अस्वस्थ था आदि।

उपवाक्य के भेद
उपवाक्य के दो भेद होते हैं जो निम्न हैं

1. प्रधान उपवाक्य
जो उपवाक्य पूरे वाक्य से पृथक् भी लिखा जाए तथा जिसका अर्थ किसी दूसरे पर आश्रित न हो, उसे प्रधान उपवाक्य कहते हैं।

2. आश्रित उपवाक्य
आश्रित उपवाक्य प्रधान उपवाक्य के बिना पूरा अर्थ नहीं दे सकता। यह स्वतंत्र लिखा भी नहीं जा सकता; जैसे—यदि सोहन आ जाए तो मैं उसके साथ चलूँ। यहाँ यदि सोहन आ जाए-आश्रित उपवाक्य है तथा मैं उसके साथ चलूँ-प्रधान उपवाक्य है।

आश्रित उपवाक्यों को पहचानना अत्यन्त सरल है। जो उपवाक्य कि, जिससे कि, ताकि, ज्यों ही, जितना, ज्यों, क्योंकि, चूँकि, यद्यपि, यदि, जब तक, जब, जहाँ तक, जहाँ, जिधर, चाहे, मानो, कितना भी आदि शब्दों से आरम्भ होते हैं वे आश्रित उपवाक्य हैं। इसके विपरीत, जो उपवाक्य इन शब्दों से आरम्भ नहीं होते वे प्रधान उपवाक्य हैं। आश्रित उपवाक्य तीन प्रकार के होते हैं।

जिनकी पहचान निम्न प्रकार से की जा सकती है

  1. संज्ञा उपवाक्य संज्ञा उपवाक्य का प्रारम्भ कि से होता है।
  2. विशेषण उपवाक्य विशेषण उपवाक्य का प्रारम्भ जो अथवा इसके किसी रूप (जिसे, जिसको, जिसने, जिनको आदि) से होता है।
  3. क्रिया विशेषण उपवाक्य क्रिया-विशेषण उपवाक्य का प्रारम्भ ‘जब’, ‘जहाँ’, ‘जैसे’ आदि से होता है।

वाक्यों का रूपान्तरण
किसी वाक्य में अर्थ परिवर्तन किए बिना उसकी संरचना में परिवर्तन की प्रक्रिया वाक्यों का रूपान्तरण कहलाती है। एक प्रकार के वाक्य को दूसरे प्रकार के वाक्यों में बदलना वाक्य परिवर्तन या वाक्य रचनान्तरण कहलाता है। वाक्य परिवर्तन की प्रक्रिया में इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि वाक्य का केवल प्रकार बदला जाए, उसका अर्थ या काल आदि नहीं।

वाक्य परिवर्तन करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

वाक्य परिवर्तन करते समय निम्नलिखित बातें ध्यान रखनी चाहिए

  • केवल वाक्य रचना बदलनी चाहिए, अर्थ नहीं।
  • सरल वाक्यों को मिश्र या संयुक्त वाक्य बनाते समय कुछ शब्द या सम्बन्धबोधक अव्यय अथवा योजक आदि से जोड़ना। जैसे- क्योंकि, कि, और, इसलिए, तब आदि।
  • संयुक्त/मिश्र वाक्यों को सरल वाक्यों में बदलते समय योजक शब्दों या सम्बन्धबोधक अव्ययों का लोप करना

1. सरल वाक्य से मिश्र वाक्य में परिवर्तन

  • लड़के ने अपना दोष मान लिया। – (सरल वाक्य)
    लड़के ने माना कि दोष उसका है। – (मिश्र वाक्य)
  • राम मुझसे घर आने को कहता है। – (सरल वाक्य)
    राम मुझसे कहता है कि मेरे घर आओ। – (मिश्र वाक्य)
  • मैं तुम्हारे साथ खेलना चाहता हूँ। – (सरल वाक्य)
    मैं चाहता हूँ कि तुम्हारे साथ खेलूँ। – (मिश्र वाक्य)
  • आप अपनी समस्या बताएँ। – (सरल वाक्य)
    आप बताएँ कि आपकी समस्या क्या है? – (मिश्र वाक्य)
  • मुझे पुरस्कार मिलने की आशा है। – (सरल वाक्य)
    आशा है कि मुझे पुरस्कार मिलेगा। – (मिश्र वाक्य)
  • महेश सेना में भर्ती होने योग्य नहीं है। – (सरल वाक्य)
    महेश इस योग्य नहीं है कि सेना में भर्ती हो सके। – (मिश्र वाक्य)
  • राम के आने पर मोहन जाएगा। – (सरल वाक्य)
    जब राम जाएगा तब मोहन आएगा। – (मिश्र वाक्य)
  • मेरे बैठने की जगह कहाँ है? – (सरल वाक्य)
    वह जगह कहाँ है जहाँ मैं बै? – (मिश्र वाक्य)
  • मैं तुम्हारे साथ व्यापार करना चाहता हूँ। – (सरल वाक्य)
    मैं चाहता हूँ कि तुम्हारे साथ व्यापार करूँ। – (मिश्र वाक्य)
  • श्याम ने आगरा जाने के लिए टिकट लिया। – (सरल वाक्य)
    श्याम ने टिकट लिया ताकि वह आगरा जा सके। – (मिश्र वाक्य)
  • मैंने एक घायल हिरन देखा। – (सरल वाक्य)
    मैंने एक हिरण देखा जो घायल था। – (मिश्र वाक्य)
  • मुझे उस कर्मचारी की कर्तव्यनिष्ठा पर सन्देह है। – (सरल वाक्य)
    मुझे सन्देह है कि वह कर्मचारी कर्तव्यनिष्ठ है। – (मिश्र वाक्य)
  • बुद्धिमान व्यक्ति किसी से झगड़ा नहीं करता है। – (सरल वाक्य)
    जो व्यक्ति बुद्धिमान है वह किसी से झगड़ा नहीं करता है। – (मिश्र वाक्य)
  • यह किसी बहुत बुरे आदमी का काम है। – (सरल वाक्य)
    वह कोई बुरा आदमी है जिसने यह काम किया है। – (मिश्र वाक्य)
  • न्यायाधीश ने कैदी को हाज़िर करने का आदेश दिया। – (सरल वाक्य)
    न्यायाधीश ने आदेश दिया कि कैदी हाज़िर किया जाए। – (मिश्र वाक्य)

2. सरल वाक्य से संयुक्त वाक्य में परिवर्तन

  • पैसा साध्य न होकर साधन है। – (सरल वाक्य)
    पैसा साध्य नहीं है, किन्तु साधन है। – (संयुक्त वाक्य)
  • अपने गुणों के कारण उसका सब जगह आदर-सत्कार होता था। – (सरल वाक्य)
    उसमें गुण थे इसलिए उसका सब जगह आदर-सत्कार होता था। – (संयुक्त वाक्य)
  • दोनों में से कोई काम पूरा नहीं हुआ। – (सरल वाक्य)
    न एक काम पूरा हुआ न दूसरा। – (संयुक्त वाक्य)
  • पंगु होने के कारण वह घोड़े पर नहीं चढ़ सकता। – (सरल वाक्य)
    वह पंगु है इसलिए घोड़े पर नहीं चढ़ सकता। – (संयुक्त वाक्य)
  • परिश्रम करके सफलता प्राप्त करो। – (सरल वाक्य)
    परिश्रम करो और सफलता प्राप्त करो। – (संयुक्त वाक्य)
  • रमेश दण्ड के भय से झठ बोलता रहा। – (सरल वाक्य)
    रमेश को दण्ड का भय था, इसलिए वह झूठ बोलता रहा। – (संयुक्त वाक्य)
  • वह खाना खाकर सो गया। – (सरल वाक्य)
    उसने खाना खाया और सो गया। – (संयुक्त वाक्य)
  • उसने गलत काम करके अपयश कमाया। – (सरल वाक्य)
    उसने गलत काम किया और अपयश कमाया। – (संयुक्त वाक्य)

3. संयुक्त वाक्य से सरल वाक्य में परिवर्तन

  • सूर्योदय हुआ और कुहासा जाता रहा। – (संयुक्त वाक्य)
    सूर्योदय होने पर कुहासा जाता रहा। – (सरल वाक्य)
  • जल्दी चलो, नहीं तो पकड़े जाओगे। – (संयुक्त वाक्य)
    जल्दी न चलने पर पकड़े जाओगे। – (सरल वाक्य)
  • वह धनी है पर लोग ऐसा नहीं समझते। – (संयुक्त वाक्य)
    लोग उसे धनी नहीं समझते। – (सरल वाक्य)
  • वह अमीर है फिर भी सुखी नहीं है। – (संयुक्त वाक्य)
    वह अमीर होने पर भी सुखी नहीं है। – (सरल वाक्य)
  • बाँस और बाँसुरी दोनों नहीं रहेंगे। – (संयुक्त वाक्य)
    न रहेगा बाँस न बजेगी बाँसुरी। – (सरल वाक्य)
  • राजकुमार ने भाई को मार डाला और स्वयं राजा बन गया। – (संयुक्त वाक्य)
    भाई को मारकर राजकुमार राजा बन गया। – (सरल वाक्य)

4. मिश्र वाक्य से सरल वाक्य में परिवर्तन

  • ज्यों ही मैं वहाँ पहुँचा त्यों ही घण्टा बजा। – (मिश्र वाक्य)
    मेरे वहाँ पहुँचते ही घण्टा बजा। – (सरल वाक्य)
  • यदि पानी न बरसा तो सूखा पड़ जाएगा। – (मिश्र वाक्य)
    पानी न बरसने पर सूखा पड़ जाएगा। – (सरल वाक्य)
  • उसने कहा कि मैं निर्दोष हूँ। – (मिश्र वाक्य)
    उसने अपने को निर्दोष बताया। – (सरल वाक्य)
  • यह निश्चित नहीं है कि वह कब आएगा? – (मिश्र वाक्य)
    उसके आने का समय निश्चित नहीं है। – (सरल वाक्य)
  • जब तुम लौटकर आओगे तब मैं जाऊँगा। – (मिश्र वाक्य)
    तुम्हारे लौटकर आने पर मैं जाऊँगा। – (सरल वाक्य)
  • जहाँ राम रहता है वहीं श्याम भी रहता है। – (मिश्र वाक्य)
    राम और श्याम साथ ही रहते हैं। – (सरल वाक्य)
  • आशा है कि वह साफ बच जाएगा। – (मिश्र वाक्य)
    उसके साफ बच जाने की आशा है। – (सरल वाक्य)

5. मिश्र वाक्य से संयुक्त वाक्य में परिवर्तन

  • वह उस स्कूल में पढ़ा जो उसके गाँव के निकट था। – (मिश्र वाक्य)
    वह स्कूल में पढ़ा और वह स्कूल उसके गाँव के निकट था। – (संयुक्त वाक्य)
  • मुझे वह पुस्तक मिल गई है जो खो गई थी। – (मिश्र वाक्य)
    वह पुस्तक खो गई थी परन्तु मुझे मिल गई है। – (संयुक्त वाक्य)
  • जैसे ही उसे तार मिला वह घर से चल पड़ा। – (मिश्र वाक्य)
    उसे तार मिला और वह तुरन्त घर से चल पड़ा। – (संयुक्त वाक्य)
  • काम समाप्त हो जाए तो जा सकते हो। – (मिश्र वाक्य)
    काम समाप्त करो और जाओ। – (संयुक्त वाक्य)
  • मुझे विश्वास है कि दोष तुम्हारा है। – (मिश्र वाक्य)
    दोष तुम्हारा है और इसका मुझे विश्वास है। – (संयुक्त वाक्य)
  • आश्चर्य है कि वह हार गया। – (मिश्र वाक्य)
    वह हार गया परन्तु यह आश्चर्य है। – (संयुक्त वाक्य)
  • जैसा बोओगे वैसा काटोगे। – (मिश्र वाक्य)
    जो जैसा बोएगा वैसा ही काटेगा। – (संयुक्त वाक्य)

6. संयुक्त वाक्य से मिश्र वाक्य में परिवर्तन

  • काम पूरा कर डालो नहीं तो जुर्माना होगा। – (संयुक्त वाक्य)
    यदि काम पूरा नहीं करोगे तो जुर्माना होगा। – (मिश्र वाक्य)
  • इस समय सर्दी है इसलिए कोट पहन लो। – (संयुक्त वाक्य)
    क्योंकि इस समय सर्दी है, इसलिए कोट पहन लो। – (मिश्र वाक्य)
  • वह मरणासन्न था, इसलिए मैंने उसे क्षमा कर दिया। – (संयुक्त वाक्य)
    मैंने उसे क्षमा कर दिया, क्योंकि वह मरणासन्न था। – (मिश्र वाक्य)
  • वक्त निकल जाता है पर बात याद रहती है। – (संयुक्त वाक्य)
    भले ही वक्त निकल जाता है, फिर भी बात याद रहती है। – (मिश्र वाक्य)
  • जल्दी तैयार हो जाओ, नहीं तो बस चली जाएगी। – (संयुक्त वाक्य)
    यदि जल्दी तैयार नहीं होओगे तो बस चली जाएगी। – (मिश्र वाक्य)
  • इसकी तलाशी लो और घड़ी मिल जाएगी। – (संयुक्त वाक्य)
    यदि इसकी तलाशी लोगे तो घड़ी मिल जाएगी। – (मिश्र वाक्य)
  • सुरेश या तो स्वयं आएगा या तार भेजेगा। – (संयुक्त वाक्य)
    यदि सुरेश स्वयं न आया तो तार भेजेगा। – (मिश्र वाक्य)

7. विधानवाचक वाक्य से निषेधवाचक वाक्य में परिवर्तन

  • यह प्रस्ताव सभी को मान्य है। – (विधानवाचक वाक्य)
    इस प्रस्ताव के विरोधाभास में कोई नहीं है। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • तुम असफल हो जाओगे। – (विधानवाचक वाक्य)
    तुम सफल नहीं हो पाओगे। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • शेरशाह सूरी एक बहादुर बादशाह था। – (विधानवाचक वाक्य)
    शेरशाह सूरी से बहादुर कोई बादशाह नहीं था। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • रमेश सुरेश से बड़ा है। – (विधानवाचक वाक्य)
    रमेश सुरेश से छोटा नहीं है। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • शेर गुफा के अन्दर रहता है। – (विधानवाचक वाक्य)
    शेर गुफा के बाहर नहीं रहता है। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • मुझे सन्देह हुआ कि यह पत्र आपने लिखा। – (विधानवाचक वाक्य)
    मुझे विश्वास नहीं हुआ कि यह पत्र आपने लिखा। – (निषेधवाचक वाक्य)
  • मुगल शासकों में अकबर श्रेष्ठ था। – (विधानवाचक वाक्य)
    मुगल शासकों में अकबर से बढ़कर कोई नहीं था। – (निषेधवाचक वाक्य)

8. निश्चयवाचक वाक्य से प्रश्नवाचक वाक्य में परिवर्तन

  • आपका भाई यहाँ नहीं है। – (निश्चयवाचक)
    आपका भाई कहाँ है? (प्रश्नवाचक)
  • किसी पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। – (निश्चयवाचक)
    किस पर भरोसा किया जाए? – (प्रश्नवाचक)
  • गाँधीजी का नाम सबने सुन रखा है। – (निश्चयवाचक)
    गाँधीजी का नाम किसने नहीं सुना? – (प्रश्नवाचक)
  • तुम्हारी पुस्तक मेरे पास नहीं है। – (निश्चयवाचक)
    तुम्हारी पुस्तक मेरे पास कहाँ है? – (प्रश्नवाचक)
  • तुम किसी न किसी तरह उत्तीर्ण हो गए। – (निश्चयवाचक)
    तुम कैसे उत्तीर्ण हो गए? – (प्रश्नवाचक)
  • अब तुम बिल्कुल स्वस्थ हो गए हो। – (निश्चयवाचक)
    क्या तुम अब बिल्कुल स्वस्थ हो गए हो? – (प्रश्नवाचक)
  • यह एक अनुकरणीय उदाहरण है। – (निश्चयवाचक)
    क्या यह अनुकरणीय उदाहरण नहीं है? – (प्रश्नवाचक)

9. विस्मयादिबोधक वाक्य से विधानवाचक वाक्य में परिवर्तन

  • वाह! कितना सुन्दर नगर है! – (विस्मयादिबोधक)
    बहुत ही सुन्दर नगर है! – (विधानवाचक वाक्य)
  • काश! मैं जवान होता। – (विस्मयादिबोधक)
    मैं चाहता हूँ कि मैं जवान होता। – (विधानवाचक वाक्य)
  • अरे! तुम फेल हो गए। – (विस्मयादिबोधक)
    मुझे तुम्हारे फेल होने से आश्चर्य हो रहा है। – (विधानवाचक वाक्य)
  • ओ हो! तुम खूब आए। (विस्मयादिबोधक)
    मुझे तुम्हारे आगमन से अपार खुशी है। – (विधानवाचक वाक्य)
  • कितना क्रूर! – (विस्मयादिबोधक)
    वह अत्यन्त क्रूर है। – (विधानवाचक वाक्य)
  • क्या! मैं भूल कर रहा हूँ! – (विस्मयादिबोधक)
    मैं तो भूल नहीं कर रहा। – (विधानवाचक वाक्य)
  • हाँ हाँ! सब ठीक है। – (विस्मयादिबोधक)
    मैं अपनी बात का अनुमोदन करता हूँ। – (विधानवाचक वाक्य)

1. वाक्यों का वर्गीकरण कितने आधारों पर किया गया है?
(a) दो (b) तीन (c) चार (d) पाँच
उत्तर :
(a) दो

2. जिन वाक्यों में एक उद्देश्य तथा एक ही विधेय होता है, उसे कहते हैं
(a) एकल वाक्य (b) सरल वाक्य (c) मिश्र वाक्य (d) संयुक्त वाक्य
उत्तर :
(b) सरल वाक्य

3. मिश्र वाक्य कहते हैं
(a) जिनमें एक कर्ता और एक ही क्रिया होती है (b) जिनमें एक से अधिक प्रधान उपवाक्य हों और वे संयोजक अव्यय द्वारा जुड़े हों (c) जिनमें एक साधारण वाक्य तथा उसके अधीन दूसरा उपवाक्य हो (d) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर :
(c) जिनमें एक साधारण वाक्य तथा उसके अधीन दूसरा उपवाक्य हो

4. जिन वाक्यों में एक-से-अधिक प्रधान उपवाक्य हों और वे संयोजक अव्यय द्वारा जुड़े हों, उसे कहते हैं-
(a) विधिवाचक (b) सरल वाक्य (c) मिश्र वाक्य (d) संयुक्त वाक्य
उत्तर :
(d) संयुक्त वाक्य

5. वाक्य के गुणों में सम्मिलित नहीं है
(a) लयबद्धता (b) सार्थकता (c) क्रमबद्धता (d) आकांक्षा
उत्तर :
(a) लयबद्धता

6. ‘नाव में नदी है’-इस वाक्य में किस वाक्य गुण का अभाव है?
(a) आकांक्षा (b) क्रम (c) योग्यता (d) आसक्ति
उत्तर :
(b) क्रम

7. वाक्य गुण ‘आकांक्षा’ का अर्थ है
(a) भावबोध की क्षमता (b) सार्थकता (c) श्रोता की जिज्ञासा (d) व्याकरणानुकूल
उत्तर :
(c) श्रोता की जिज्ञासा

8. वाक्य गुण ‘आसक्ति’ का अर्थ है
(a) व्याकरणानुकूल (b) क्रमबद्धता (c) योग्यता (d) समीपता
उत्तर :
(d) समीपता

9. अर्थ के आधार पर वाक्य कितने प्रकार के होते हैं?
(a) आठ (b) दस (c) तीन (d) चार
उत्तर :
(a) आठ

10. जिन वाक्यों से किसी कार्य या बात करने का बोध होता है, उन्हें कहते हैं
(a) आज्ञावाचक (b) विधानवाचक (c) इच्छावाचक (d) संकेतवाचक
उत्तर :
(b) विधानवाचक

The Open Window Summary By Saki Analysis and Explanation

Students can also check the English Summary to revise with them during exam preparation.

The Open Window Summary Analysis and Explanation

About the Writer Saki

Poet Name Saki
Born 18 December 1870, Sittwe, Myanmar (Burma)
Nickname H. H. Munro
Full name Hector Hugh Munro
Saki - the open window summary class 8 solutions
Saki

Short Summary Of The Open Window in English

The Open Window Introduction
The writer set the story in a rural area. The story revolves around an open window. Although it is an object the girl weaved a narrative around it. She concocted a story that scared away the guest. She again made up a story and gave the scene a new twist. The swiftness and brevity in her creating a narrative were extraordinary.

The Open Window Summary of the Lesson

Frampton Nuttel is the main character of the story. He reached out to the countryside to get cured of his disease. The story opened in a house where a girl was attending to her guest in the absence of her aunt.

She was a girl of fifteen years. He was apprehensive if he could find a cure for his nerve disease. He thought of his sister who advised and sent him to the countryside with a letter of introduction. She was skeptical of his improvement in health unless he visits a quiet and peaceful place.

After a few minutes of silence, the girl inquired if he knew anyone in the surrounding. He gently answered that he was new to the place and it was his sister who stayed there about four years ago. He also spoke in a regretful tone about the reference letter.

The girl tried to confirm if he really didn’t know the people around. Frampton pondered about the state of Mrs. Sappleton while looking around in the room. The girl started concocting a story about Mrs.

Sappleton that her husband and two brothers with spaniel went for hunting. They did not return. Their bodies were not found. That’s why she kept the French window open.

She often told her that her husband would enter with a waterproof coat over his arm and Ronnie her youngest brother would sing ‘Bertie, who do you bound?’ to tease her.

She further added that even she started believing. Then entered Mrs. Sappleton asking for forgiveness of delay. She was certain that Vera must have entertained him with her craft of telling stories.

She informed him about her family members who went out for shooting for snipe in the Marshes. She was worried about her carpet as they would spoil that with muddy shoes.

She kept on saying about the scarcity of birds and prospects for duck in the winter. Frampton was on his nerves when he related the two stories of the ladies of the house.

Frampton called it an unfortunate coincidence that he visited on the anniversary of such a tragic ailments. He told her that the doctor’s advised him to take complete rest, and to avoid anything in ‘the nature of violent physical exercise’.

Mrs. Sappleton’s eyes were anxiously waiting for her husband and then came shine in her eyes when she saw them approaching. Through the most horrified Frampton looked at Vera and stared at the window.

Three figures entered walking across the lawn towards the window carrying their arms. Then her brother teased her again by saying ‘Bertie, why do you bound?’.

Terrified with unnamed fear Frampton picked up his things and went away almost colliding with a cyclist.

Mrs. Sappleton told her husband about Mr. Nuttel about who asked at sudden withdrawal. Mrs. Sappleton was also taken aback at such a gesture. Vera explained that once he had experienced a horror of dogs.

He was once hunted into a cemetery and had to spend a night there. The story ended at the brevity and storytelling quality of the girl.

The Fight Summary Analysis and Explanation

Students can also check the English Summary to revise with them during exam preparation.

The Fight Summary Analysis and Explanation By Norman Mailer

About the author Norman Mailer

Poet Name Norman Mailer
Born 31 January 1923, Long Branch, New Jersey, United States
Died 10 November 2007, The Mount Sinai Hospital, New York, United States
Spouse Norris Church Mailer (m. 1980–2007)
Movies The Executioner’s Song, Maidstone, Town Bloody Hall
Norman Mailer - the fight summary analysis and explanation class 8
Norman Mailer

The Fight Introduction

The lesson tells a story of two boys who were fighting with each other for dominance and became friendly after resolving their differences. Mutual respect and understanding for each other brought them together.

The Fight Part 1 Summary of the Lesson in English

Ranji live in a town in Rajputana desert. Ranji was new to the place in Rajpur. He roamed around in the semi hill station and the nearby forest. His schools were closed.

He did not have friends as yet, so he preferred to take a look at the surroundings. The season was hot, with dry and parched earth, brown and dry grass lifeless trees. Everything came to a standstill and waiting for the cool breeze. Ranji wore vest and shorts.

‘One day, Ranji found a small stream in the forest. The water was clear with pebbles at the bottom of the pool. It was not rushing stream as it was watered during monsoon.

The small stream made a pool in the rocks. He was fascinated by the clear water and jumped into it. He was thin and dark. He belonged to an area where only sticky, muddy pools where buffaloes bathe and women washed clothes.

His fondness for swimming did not die. Even the next day, he remained in the water for sometime and rested at a smooth yellow rock in the shade of sal trees and kept on doing this.

He was observed by another boy observing him in an unfriendly way. He was older, to Ranji. Ranji overlooked him until the boy asked about his identification.

Ranji did not expect the unfriendly behaviour of the boy. Still he invited him to swim along. The boy rejected his offer and claimed the pool to be his. The boy tried to scare a way him and stood in a commanding position.

He said that he was a warrior. To which Ranji replied that he was a fighter. He kept on intimidating Ranji who was unwilling to Surrender. That led them to fight about.

Initially they tried to scare each other away. The boy punched hard on Ranji’s face waking him dizzy. They started hitting each other hard and then hold each other’s neck. They tumbled over each other.

They were exhausted still no one wanted to surrender before other. Then they put on their clothes and decided to continue the dual the next day.

The Fight Part 2 Summary of the Lesson in English

Ranji tried to hide his bruises from his mother but failed to do so. His mother asked him to stay at home for the rest of the day. But he managed to slip away and enjoyed lemonade and jalebis.

There he came across his opponent again but refused to acknowledge his presence. The boy still tried to scare away him.

The next day, Ranji was rather reluctant to fight as he was tired and exhausted. Yet he was not ready to give up before his adversary. His body was aware of being defeated still wanted to take up the challenge. He wanted to retain his respect and dignity. Also he did not want to give up his ownership on the pool.

His efforts not to get scared wasted when he saw his opponent standing. He was rubbing oil on his body standing on a rock on the other ride of the pool. He threw the challenge which was accepted by Ranji.

He asked him to come by swimming across the pool. He thought that Ranji would pant for breath without knowing the expertise of him in swimming.

Ranji took off his vest and jumped into the pool by stretching his hand. He dived straight into the water and surfaced without a splash. The boy was fascinated by his dive and asked him to teach him diving.

Ranji told him that it was easy by stretching arms and allowing the head to displace his feet. The boy tried but failed miserably. He landed flat on his belly with a splash with crashing sound that scared away the birds.

He was asked to practice more. He was also astonished to see that Ranji could swim under water. Ranji supported him in every failed effort. They made a pact that Ranji would teach him swimming and the boy won’t scare him away.

He revealed his name and also asked about his strength by stretching out his muscles. Ranji was glad to know his name and also appreciated his built.

He declared that one day he would be a pahalwan. He invited him to have food with him and also offered to teach him to be like him. He asked if he could teach him to dive and swim underwater.

Ranji was apprehensive initially yet agreed upon the pact. Suraj showed his honest friendship by putting across his arm around. Ranji responded well to his gesture.

Suraj declared that the pool belonged to both of them. Suraj was rejoicing that moment because he was emerged as the winner.