Development Of India Essay In Hindi

विकास पथ पर भारत निबंध – Development Of India Essay In Hindi

विकास पथ पर भारत निबंध – (Essay On Development Of India In Hindi)

रूपरेखा–

  • प्रस्तावना,
  • विकास के विभिन्न सोपान,
  • विकास में बाधक तत्त्व,
  • उपसंहार।

साथ ही, कक्षा 1 से 10 तक के छात्र उदाहरणों के साथ इस पृष्ठ से विभिन्न हिंदी निबंध विषय पा सकते हैं।

विकास पथ पर भारत निबंध – Vikaas Path Par Bhaarat Nibandh

प्रस्तावना–
15 अगस्त 1947 को सैकड़ों वर्षों के दमन, अत्याचार, शोषण और पराधीनता के. कुत्सित पंक से एक पंकज प्रस्फुटित हुआ था–’स्वतन्त्र–भारत’; स्वतन्त्र और स्वाभिमान से गर्वोन्नत भारत, विश्वभर के स्वाधीनता संग्रामों की आशाओं का आकाश–दीप भारत। तब से आज तक हमारा भारत निरन्तर विकास के पथ पर अग्रसर हो रहा है। आज हमारे राजनेता भारत को शीघ्र ही महाशक्ति बनाने का सपना देखने लगे हैं।

विकास के विभिन्न सोपान–देश के विकास के विभिन्न सोपानों को निम्नलिखित रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है-

भोजन, वस्त्र और आवास के क्षेत्र में–
कभी देश को बाहर से अन्न का आयात करना पड़ता था, आज हरित क्रान्ति के बल पर हम अनाज निर्यात करने की स्थिति में आ गये हैं। वस्त्रों का निर्यात भी हो रहा है। भवन–निर्माण की सामग्री देश में उपलब्ध है। कॉलोनियों का अबाध विस्तार हो रहा है।

चिकित्सा के क्षेत्र में स्वास्थ्य और चिकित्सा के क्षेत्र में भी देश ने उल्लेखनीय प्रगति की है। स्वास्थ्य केन्द्र तथा चिकित्सालयों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। अनेक जटिल तथा असाध्य रोगों की चिकित्सा अब देश में उपलब्ध है।

अफ्रीका और अरब देशों के नागरिक अब यूरोप के स्थान पर भारत आकर चिकित्सा कराना उचित समझते हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में–
अशिक्षा के कलंक को मिटाने का भी देश में अथक प्रयास हुआ है। प्राथमिक शिक्षा अनिवार्य कर दी गई है। प्रौढ़–शिक्षा जैसे आन्दोलन भी चलते रहे हैं। शिक्षा को मौलिक अधिकार बनाने का कानून पारित हो चुका है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हमारा भारत वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी दृष्टि से भी विश्व के अनेक विकसित देशों की श्रेणी में आ गया है। साइकिल से लेकर अन्तरिक्ष यान तक देश में बन रहे हैं। परमाणु विज्ञान, धातु विज्ञान, अन्तरिक्ष अनुसन्धान, सूचना प्रौद्योगिकी, संचार, शस्य विज्ञान आदि पर निरन्तर अनुसन्धान हो रहे हैं। सूचना प्रौद्योगिकी में तो भारत ने सारे विश्व में अपनी धाक जमा ली है।

हमारी अनेक कम्पनियाँ विदेशों में नामी कम्पनियों का अधिग्रहण कर रही हैं। टाटा स्टील द्वारा कोरस का अधिग्रहण इस दिशा में उल्लेखनीय है। सॉफ्टवेयर व्यवसाय में तो भारत की धूम मची हुई है। निर्यात व्यापार में भी उल्लेखनीय वृद्धि हो रही है। विदेशी मुद्रा भण्डार निरन्तर बढ़ता जा रहा है।

सुरक्षा के क्षेत्र में सुरक्षा के क्षेत्र में भी भारत अब किसी से पीछे नहीं है। परम्परागत तथा नवीनतम अस्त्र–शस्त्रों का निर्माण देश में हो रहा है। टैंक, रडार, मिसाइल, लड़ाकू यान, ‘पृथ्वी’, ‘त्रिशूल’, ‘अग्नि’ आदि प्रक्षेपास्त्रों का विकास देश को सुरक्षा के प्रति आश्वस्त बना रहा है। हम विश्व की परमाणु शक्ति बन चुके हैं। अमेरिका से हुआ परमाणु–समझौता उल्लेखनीय है। अग्नि 5 मिसाइल का सफल परीक्षण भारत की बढ़ती सुरक्षा व्यवस्था का प्रमाण है।

आर्थिक क्षेत्र में देश का शेयर बाजार आत्मविश्वास से परिपूर्ण है। गत वर्षों में आर्थिक प्रगति 8 से 10 प्रतिशत रही है। विदेशी पूँजी का निवेश निरन्तर बढ़ रहा है। ये सारे मानदण्ड देश के विकास को प्रमाणित करते हैं। जब अमेरिका और यूरोपीय देशों में मंदी तथा बेरोजगारी बढ़ रही है, भारत में विकास दर ठीक बनी रहने की उम्मीद है।

विकास में बाधक तत्व–
विकास की उपर्युक्त छवि बड़ी मनमोहिनी है। किन्तु विकास का यह प्रकाश अभी देश के लाखों गाँवों तक पूरी तरह नहीं पहुँचा है। विकास के मार्ग में अनेक ऐसे बाधक तत्त्व हैं जो विकास की धारा को जन–जन तक नहीं पहुँचने देते। भ्रष्टाचार, जनसंख्या की वृद्धि, राष्ट्रीय भावना का क्षरण, जीवन–मूल्यों के प्रति अनादर, विदेशी षड्यन्त्र, बेरोजगारी, जातिवाद, साम्प्रदायिकता आदि कारक हैं, जो देश की प्रगति में बाधक बने हुए हैं।

उपसंहार–
अन्त में यही कहा जा सकता है कि देश ने हर दिशा में विकास किया है। विश्व में भारत की विश्वसनीयता बढ़ी है, किन्तु अभी मंजिल दूर है। अर्थशास्त्रियों ने देश को विकसित राष्ट्र बनाने के लिये कुछ मूलमन्त्र सुझाए हैं किन्तु आज की कुटिल राजनीति, सत्ता–लोलुपता और जनता का दिग्भ्रमित रूप इसे साकार होने देंगे, इसमें सन्देह है।

Leave a Comment