National Unity, Nation and Nationalism Summary in English and Hindi by Jayaprakash Narayan

National Unity, Nation and Nationalism Summary in English and Hindi Pdf. National Unity, Nation and Nationalism is written by Jayaprakash Narayan. Learncram.com has provided National Unity, Nation and Nationalism Objective Questions and Answers Pdf, Chapter Story Ka Meaning in Hindi.

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

National Unity, Nation and Nationalism Summary in English and Hindi by Jayaprakash Narayan

National Unity, Nation and Nationalism by Jayaprakash Narayan About the Author

Jaya Prakash Narayan (1902-1979) was popularly known as J.P. He is one of the most prominent leaders and thinkers produced by India in modern times. Although he never sought power for himself, he plays a major. role in the freedom movement. He also played active role in the Socialist and Sarvodaya movements. In the last phase of his life, Jaya Prakash Narayan started movement against authoritarianism which is popularly known as J.P. movement. He died in the year 1979.

National Unity, Nation and Nationalism Written by Jayaprakash Narayan Introduction to the Chapter

National Unity, Nation and Nationalism Summary in English

In the present essay, Jaya Prakash Narayan asserts the importance of maintaining national unity to resist foreign rule. He holds the very term national unity as misnomer, as all elements of the nation were not interested in the freedom struggle. According to him, only the masses had any real interest in the anti-imperialist struggle and therefore, the need of the hour was to organize the masses to rise against the forces of imperialism.

In the history of our country, 1857 are written in red letters. While in 1857, Sepoy Mutiny was started by Mangal Pandey and in 1885, Indian National Congress was set up. The aim behind these two events was to start India’s struggle for independence and to give it momentum. 1857 saw an open and armed struggle for sovereign power and 1885 saw an act of humble petitioning. The establishment of Indian National Congress can be said to be “the beginning of the formulation of India’s demands.” Nationalism means different things at different times. The difference lies not only in its objectives but in its human content as well. In 1857, feudal chiefs and their soldiers were the ‘nationalists’. In 1885, seventy-two persons from middle classes including retired government servants became ready to carry on India’s struggle for independence.

Neither the feudal chiefs who fought in 1857 nor the baboos who founded the Congress in 1885, comprised the whole nation. At the same time, they did not stand for all the classes and groups within it. It would have been comic for the peasants in 1885 to have ‘united with the baboos in demanding ‘seats’ in the councils and more jobs for the English-educated. Thus, we see that a ‘nation’ does not in reality mean the whole nation, nor does nationalism comprise the interests of all the classes and groups within it. Different classes constitute the ‘nation’ and give expression to nationalism at different times. What class or group would play this role at a given time depends upon the circumstances of history and the structure of society.

The Indian nation is made up of princes, industrialists, bankers, merchants, peasants, labourers etc. Nationalism does not mean the same thing to all these classes. The freedom of one of them is not the same as the freedom of the other. Nor the manner in which they fight for freedom, is the same for all. For princes, freedom means complete soverignty which can be won on the battlefield. The Landlords of India are largely the creation of British imperialism. Big Landlords have always stood with imperialism. Nationalism has no meaning to these people they want jobs in higher services. They also want to maintain balance of power by getting political power. Nationalism to industrialists means complete freedom to exploit the country’s resources to build up their fortune. For doing this, they require a great deal of control over the state. The Indian industrial class has grown up under the protection of imperialism. It is completely at its mercy economically and politically. It has no other foreign support.

Thus firstly, Indian industrialists are unable to oppose imperialism. Secondly, they would get satisfied with facilities for economic development. Thirdly, they would support nationalism only when it aims at placing them in the seat of power. Here is the third breach in national unity. Further, India is a land of peasants. If Indian nationalism has any meaning, it should mean the freedom of the peasants. It is freedom from exploitation whether this exploitation is carried on by a brown or a white skin. As for the method of struggle, peasants have always known direct method. Such action is dangerous for the foreign oppressor as for the native. It is necessary in the national interests that peasants do not become conscious of their economic and political destiny. The worker’s freedom means freedom from wage slavery by social ownership of means of production. Like the peasants, the workers weapon too is direct action. They too must not become class conscious, so that national unity may be maintained.

In this way nationalism downs not mean the same thing to all the classes within the nation. national unity means that th lower classes should fight imperialism not to secure their own freedom ecploitation but to enthrone the landed magnates. Thus, national unity can be maintained only at the cost of mass consciousness.

National Unity, Nation and Nationalism Summary in Hindi

1. What is …………………… nationalism?
अनुवाद : राष्ट्रीय एकता क्या है ? राष्ट्रवाद क्या होता है ?

2. Let us compare ………………………….. humble petitioning.
अनुवाद : आओ हम अपने राष्ट्रीय इतिहास की दो उल्लेखनीय घटनाओं की तुलना करे 1857 और 1885. इन दोनों घटनाओं में केवल 28 वर्ष का अन्तर था फिर भी उन्होंने राष्ट्रीय दृष्टिकोण में अविश्वसनीय परिवर्तन पैदा किया था। 1857 में प्रभुसत्ता-सम्पन्न शक्ति के लिए खुला, सशस्त्रीय संघर्ष हुआ। 1885 में विनीत आवेदन ।

3. From a struggle for ………… ………….. of India’s demanda.
अनुवाद : प्रभुसत्ता के लिए संघर्ष से रॉयल कमीशन के लिए प्रार्थना करना भारी परिवर्तन का संकेत देता है। फिर भी पिछली घटना को भारतीय मांगों के प्रतिपादन का आरम्भ कहा जता है ।

4. If, however, both ………………………. government servants.
अनुवाद : यदि 1857 और 1885, दोनों ही राष्ट्रीय आन्दोलन के द्योतक थे, तो यह बात स्पष्ट है कि राष्ट्रीयवाद का अर्थ अलग-अलग समय में अलग-अलग होता है और यह अन्तर न केवल उनके उद्देश्य में होता है बल्कि उनमें भाग लेने वाले मनुष्यों में भी होता है। 1857 में सामन्त और उनके सैनिक राष्ट्रवादी थे, 1885 में मध्यवर्ग क सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों के काडर से आए 72 लोग।

5. These facts throw………………………called the Motherland.
अनुवाद : ये तथ्य राष्ट्रीयवाद व राष्ट्रीय एकता पर भारी प्रकाश डालते हैं। न तो सामन्त जो 1857 में लड़े थे, न ही वे बाबू जिन्होंने 1885 में कांग्रेस की स्थापना की थी, समूचे राष्ट्र थे और न ही उनके अंतर्गत जो वर्ग व समुदाय थे, वे उनका प्रतिनिधित्व करते थे। यह सोचना हास्यप्रद होगा कि 1885 में खेतिहर कृषक बाबुओं के साथ परिषद् में स्थान और अंग्रेजी पढ़े लोगों के लिए नौकरियों की माँग करने के लिए सम्मिलित होते । (सम्भवतः आज भी किसानों से बाबुओं के साथ मिलकर अस्पष्ट स्वराज और मातृभूमि नाम की रहस्मय वस्तु के लिए लड़ने की अपेक्षा करना कम हास्यास्पद नहीं है।)

6. Thus we see…………………………….class propaganda.
अनुवाद : सो हम देखते है कि राष्ट्र का अर्थ समस्त राष्ट्र नहीं होता, और न ही राष्ट्रीयवाद में उसमें रहने वाले सभी वर्गों व समुदायों के हित निहित होते हैं । अलग-अलग समय पर विभिन्न वर्गो से राष्ट्र बनते हैं और राष्ट्रवाद को व्यक्त करते हैं। किस समय कौन-सा वर्ग या समुदाय यह भूमिका निभाएगा, यह इतिहास की परिस्थितियों और समाज के ढाँचे पर निर्भर करता है। यह प्रायः हो जाता है कि किसी क्षण का राष्ट्रीय हित अधिसंख्यक जनता के वास्तविक हित के विपरीत होता है। जब ब्रिटेन में 1931 के निर्वाचन के समय ‘देश खतरे में है’ का नारा लगाया गया था, इसका वास्तव में प्रयोजन लोगों को ब्रिटिश पूँजीवादी को चिरस्थाई बनाने के लिए मतदान करने के लिए हाँकना था, ब्रिटिश पूँजीवाद को चिरस्थाई बनाने के लिए मतदान करने के लिए हाँकना था, ब्रिटिश पूँजीवाद जो कि शोषण व बन्धन का प्रतीक था। इसलिए राष्ट्र को अभाजित व समूचा मानना, वर्गीय प्रचार का शिकार बनना है।

7. The indian nation is……………………………… same for all.
अनुवाद : भारतीय राष्ट्र राजाओं, उद्योगपतियों, साहूकारों व्यापारियों, किसानों, मजदूरों आदि से बना है। राष्ट्रवाद इन सब वर्गों के लिए एक ही अर्थ नहीं रखता। इनमें से एक की स्वतंत्रता दूसरे की स्वतत्रता जैसी नहीं है। न ही स्वतंत्रता के लिए जिस ढंग से वे संग्राम करेंगे वे सबके लिए एक जैसा होगा।

8.Let us take the……………………………….. national unity.
अनुवाद : हम राजाओं की बात करें। उनकी स्वतंत्रता का अर्थ है पूर्ण प्रभुसत्ता, जो कि युद्ध क्षेत्र में लड़कर प्राप्त की जा सकती है। परन्तु 1857 के पश्चात् कौन-सा. राजा अपनी प्रभुसत्ता प्राप्त करने के लिए युद्ध करने की परिस्थिति में है ? स्पष्ट है कि राजा सदा के लिए ब्रिटिश साम्राज्यवाद के अधीन रहेंगे। इस कारण वे राष्ट्रीय आन्दोलन का इस हद तक इकट्ठा विरोध करेगें जहाँ तक यह साम्राज्यवाद का विरोध करता है। यह राष्ट्रीय एकता में प्रथम दरार है।

9. The landlords……………………. breach in national unity.
अनुवाद : जैसा भली-भाँति पता है कि जमींदार अधिकतर अंग्रेजी साम्राज्य के बनाए हुए हैं। बड़े जमींदारों ने सदा साम्राज्य का साथ दिया है और ग्रामीण क्षेत्रों में वे इसके सबसे मजबूत सहारा हैं। इन लोगों के लिए राष्ट्रवाद का कोई अर्थ नहीं-सिवाए इसके कि यदि राष्ट्रीय शक्तियाँ मजबूत होती हैं और भारतीयों को राजनैतिक शक्ति मिलती है, तो वे इस शक्ति को निष्प्रभाव कर देंगे । वे स्वयं साम्राज्यवाद का विरोध करने, या उसके विरुद्ध आन्दोलन करने में रुचि नहीं रखते । राजनीति में उनका प्रवेश यह सुनिश्चित करने के लिए होगा कि भारतीयों के हाथों में शक्ति स्थानान्तरण से उनके हितों को कोई क्षति नहीं पहुँचती । राजनीति की तनिक भी जानकारी या अनुभव रखने वाला जमींदारों से एकता की बात नहीं कर सकता । यह राष्ट्रीय एकता में दूसरी दरार है।

10. Let us take…………………….. with ‘reforms’.
अनुवाद : इससे आगे उद्योगपतियों की बात करते हैं। उनक लिए राष्ट्रवाद का अर्थ देश के संसाधनों (मानव व माल) का अपने स्वार्थ के लिए लाभ उठाने और अपनी पूँजी बढ़ाने की पूरी आजादी है या जिसे हम मंगल भाषा में देश का विकास करना है । इसके लिए उनको सरकार पर भारी नियन्त्रण की आवश्यकता है, जिससे अन्ततः उन्हें पूर्ण नियन्त्रण प्राप्त हो जाए । परन्तु क्योंकि इसमें जोखिम बहुत हैं, वे इस नियन्त्रण के लिए धीरे-धीरे ‘सुधार’ के साथ रियाअतें प्राप्त करके संतुष्ट रहेगे।

11. The Indian industrial…………………………..of their class.
अनुवाद : भारतीय उद्योगपति वर्ग साम्राज्य के संरक्षण में बढ़ा है और आर्थिक व राजनैतिक संदर्भ में उस पर पूर्णतः आश्रित है। उन्हें अन्य कोई सहारा नहीं है, जैसे कि आयरलैंड के मध्यवर्ग को अमेरिका में था। भारत में इस विकास के परिणामस्वरूप लोगों को ऐसा लाभ नहीं हुआ है। न ही देश के आर्थिक या सांस्कृतिक जीवन पर कोई प्रभाव अनुभव हुआ है। जिससे लोगों में इसका समर्थन करने के लिए जोश पैदा हो । इसलिए यह वर्ग साम्राज्यवाद का विरोध करने में अक्षम है। अधिक से अधिक यह इस पर दबाव डाल सकता है। परन्तु यह दबाव भी समूचे वर्ग की ओर से न होगा। केवल एक ही ढंग से जिससे यह साम्राज्यवाद पर दबाव डाल सकता है और वह है उन वर्गों को जिनको ऐसा करने में कम जोखिम है, उनको प्रलोभन देकर या लुक-छुप कर उनकी सहायता कर सकता है। वह सहायता भी वह खींच लेगा यदि दबाव का उद्देश्य उस वर्ग के हितों की पूर्ति के अतिरिक्त कुछ और होगा।

12. Thus, we see,……………………….in national unity.
अनुवाद : इस प्रकार हमने पहले तो यह देखा कि भारतीय उद्योगपति स्वयं साम्राज्यवाद का विरोध करने में अक्षम हैं। दूसरे, कि वे आर्थिक विकास के लिए सहूलियते प्राप्त करके संतुष्ट होंगे, और तीसरे, वे राष्ट्रवाद का समर्थन तभी करेगे जब उसका उद्देश्य उनको शक्ति के आसन पर बैठाना होगा। यह राष्ट्रीय एकता में तीसरी दरार है।

13. Let us take………………………a peasant raj.
अनुवाद : अब किसानों की बात करते हैं भारत किसानों का देश है। यदि राष्ट्रवाद का कोई अर्थ है, तो वह किसानों की आजादी होनी चाहिए । स्वतंत्रता क्या है ? सबसे प्रथम, यह शोषण से मुक्ति प्राप्त करना है, चाहे वह शोषण गोरी चमड़ी वाला करता हो या भूरी चमड़ी वाला । इसके आगे, यह राष्ट्र की आर्थिक व राजनैतिक नीतियों को अपने हितों के अनुसार बनाने के अवसर प्राप्त करना है। संक्षेप में, वह किसान राज होगा।
14. As for method of ……………………………. breach in unity.
अनुवाद : जहाँ तक संघर्ष करने के ढंग का प्रश्न है, किसानों को एक ही ढंग आता है-सीधी कार्रवाई । इस प्रकार की कार्रवाई विदेशी शोषणकर्ता व मूल निवासी दोनों के लिए खतरनाक है। इसलिए मूल निवासियों (शोषणकर्ता) के हित में नहीं है कि किसान अपने आर्थिक व राजनैतिक भाग्य से अवगत हों। दूसरे शब्दों में, राष्ट्रीय एकता उसी उसी समय भंग हो जाएगी जब किसान ‘सचेत हो जाएँगे। यह राष्ट्रीय एकता में एक अन्य दरार है।

15. Likewise with the…………………………..further breach.
अनुवाद : यही बात मजदूरों के बारे में है। मजदूरों के लिए आजादी का अर्थ उत्पादन के साधनों पर सामाजिक मिलकियत के द्वारा वेतन की दासता से आजादी प्राप्त करना है। किसानों की भाँति मजदूरों का शस्त्र भी सीधी कार्रवाई है और वे भी वर्ग के बारे में सचेत नहीं होंने चाहिए ताकि राष्ट्रीय एकता को बनाए रखा जा सके । वर्ग की भावना से सचेत मजदूर वर्ग का अर्थ राष्ट्रीय एकता का भंग होना है। यह एक और दरार है।

16. The above analysis……………………..of the first.
अनुवाद : उपरोक्त विश्लेषण ने यह दर्शा दिया कि राष्ट्रीय एकता जैसी कोई चीज नहीं है जिसका समाजवादी विध्वंस करने का प्रयास कर रहे हैं। समाज में रहने वाले सभी वर्गो के लिए राष्ट्रवाद का अर्थ एक ही नहीं होता। यह साधारण रूप से विदेशी मुसीबत से छुटकारा पाना नहीं है। कुछ वर्ग प्राकृतिक रूप से उस मुसीबत के पक्ष में होते हैं और वे जो इसके विरुद्ध हैं, उनमें से कुछ उसका विरोध करने के योग्य नहीं हैं और जो इस योग्य हैं, उनके मूल स्वार्थ पहले वाले से सीधे टकराते हैं।

17. The above analysis…………………………..of the first.
अनुवाद : उपरोक्त विश्लेषण ने यह दर्शा दिया कि राष्ट्रीय एकता जैसी कोई चीज नही है जिसका. समाजवादी विध्वंस करने का प्रयास कर रहे हैं। समाज में रहने वावले सभी वर्गों के लिए राष्ट्रवाद का अर्थ एक ही नहीं होता। यह साधारण रूप से विदेशी मुसीबत से छुटकारा पाना नहीं है। कुछ वर्ग प्राकृतिक रूप से उस मुसीबत के पक्ष में होते हैं और वे जो इसके विरुद्ध हैं, उनमें से कुछ उसका विरोध करने के योग्य नहीं हैं और जो इस योग्य हैं, उनके मूल स्वार्थ पहले वाल से सीधे टकराते हैं।

18. The analysis shows ……………………….. mass consciousness.
अनुवाद : यह विश्लेषण इसके अतिरिक्त यह स्पष्ट करता है कि राष्ट्रीय एकता का अर्थ वास्तव में यह है कि निम्न वर्ग-जनसाधारण-साम्राज्यवाद के विरुद्ध युद्ध स्वयं का शोषण से छुटकारा पाने के लिए न लड़े, बल्कि मध्यवर्ग और शक्तिशाली जमींदारों को साम्राज्यवादी शक्तियों के स्थान पर गद्दी पर बैठाने के लिए लड़े, जो स्वयं तो युद्ध में भाग नहीं लेते। यह एकता केवल जनसाधारण की चेतना की कीमत देकर कायम रखी जा सकती है।

Word-Meanings:
notable (adj) : unusual = उल्लेखनीय, महत्वपूर्ण, wrought (v) : shaped, brought about = गढ़ा, sovereign (adj) : highest power in a country= प्रभुसत्ता-सम्पन्न, peasants (n) : small farmers = खेतिहर किसान, circumstances (n) : conditions = परिस्थितियाँ, stempede (v) : drive भागना, perpetuation (n) : make eternal = चिरस्थाई बनाना, vassals (n) : subordinates = अधीन, imperialism (n) : belief in colonial empire : साम्राज्यवाद, breach (n) : break = दरार, props (n): support = सहारा, euphemistically (adv) : substituting a mild word for harsh one = नरमी से बात कहना, aegis (n) : patronage = संरक्षण surrepitiously (adv) : stealthily = लुका छुपाकर, incubus (n) : something bad = दुस्वप्न ।

Leave a Comment