Indian Village Essay In Hindi

भारत के गाँव पर निबंध – Indian Village Essay In Hindi

भारत के गाँव पर निबंध – Essay On Indian Village In Hindi

संकेत-बिंदु –

  • भूमिका
  • आजादी से पहले गाँवों की स्थिति
  • गाँवों की वर्तमान स्थिति
  • गाँवों का महत्त्व
  • गाँवों में भारतीय संस्कृति का असली रूप
  • उपसंहार।

चले गाँव की ओर (Chale Gav Ki Or) – Let’s Go To The Village

साथ ही, कक्षा 1 से 10 तक के छात्र उदाहरणों के साथ इस पृष्ठ से विभिन्न हिंदी निबंध विषय पा सकते हैं।

भमिका – भारत को गाँवों का देश कहा जाता है। यहाँ की लगभग दो तिहाई जनसंख्या गाँवों में रहती है। उसकी आजीविका का आधार कृषि और उससे जुड़े उद्योग धंधे हैं। इन्हीं गाँवों में हमारे देश की आत्मा बसती है। तभी तो कहा गया है-‘है अपना हिंदुस्तान कहाँ, वह बसा हमारे गाँवों में।’

आज़ादी से पहले गाँवों की स्थिति – आज़ादी से पहले गाँवों की स्थिति दयनीय हालत में थी। गाँवों का भाग्य ज़मींदारों के हाथ में था। ये ज़मींदार किसानों, मज़दूरों तथा अन्य कर्मियों पर मनमाना टैक्स लगाते थे। वर्षा न होने पर पैदावार न होने की दशा में वे लगान वसूलना नहीं भूलते थे। ऐसे में किसान की हालत दयनीय थी।

झोपड़ियों या कच्चे घरों में रहना वहीं पास में पेड़ों से बँधे जानवर कच्ची गलियाँ, गलियों में बहता घरों का गंदा पानी, वर्षा ऋतु में घुटनों तक भरा कीचड़, चारों ओर फैली गंदगी, कमज़ोर शरीर वाले अनपढ़ नर-नारी और बच्चे कुछ ऐसा था गाँवों का स्वरूप जहाँ विकास के कदम नहीं पहुँचे थे। अस्पताल, बैंक, डाकघर, स्कूल सब कुछ गाँववालों की पहुँच से दूर हुआ करते थे।

गाँवों की वर्तमान स्थिति – आजकल गाँवों की स्थिति में पर्याप्त बदलाव आ गया है। स्वतंत्रता के उपरांत ग्रामीण विकास की योजनाएँ बनने और उनका क्रियान्वयन होने से विकास की बयार गाँवों तक जा पहुँची है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना कार्यक्रम की शुरुआत होने से अधिकांश गाँवों को सड़कों से जोड़ा गया है। ग्रामीण विद्युतीकरण से बिजली गाँवों तक पहुंच गई है। इससे टेलीविजन वाशिंग मशीन, फ्रिज जैसे आधुनिक उपकरण गाँव वालों के घरों तक जा पहुँचे। सिंचाई की व्यवस्था हेतु राजकीय नलकूप लगवाए गए।

इससे कृषि की वर्षा पर निर्भरता खत्म हुई। इससे किसानों की आय में वृद्धि हुई। अब वहाँ भी पक्की नालियाँ और खड्जे दिखाई देते हैं। कंधे पर हल रखकर खेत को जाता हुआ, किसानों की जगह अब ट्रैक्टर दिखाई देते हैं। घर के बाहर जहाँ-जहाँ हल-बल दिखाई देते थे, अब वहाँ ट्रैक्टर और कृषि के अन्य उन्नतयंत्र दिखाई देते हैं।

गाँवों का महत्त्व – गाँव शहरी जीवन की अनेक वस्तुओं के आपूर्ति के केंद्र हैं। गाँवों में उगाए गए अनाज द्वारा ही शहर के लोगों तथा सीमा पर देश की रक्षा में लगे जवानों का पेट भरता है। गाँवों की कृषि उपज के कारण खाद्यान्न का निर्यात होता है। इससे विदेशी मुद्रा की प्राप्ति होती है। गाँवों को दूध-घी का केंद्र माना जाता है।

शुद्ध दूध, दही और घी गाँवों में ही मिलता है। गाँवों की सब्ज़ियाँ ही शहरों में पहुँचाई जाती हैं। इसके अलावा कृषि से जुड़े सारे उत्पाद गाँवों से शहर में पहुँचाए जाते हैं। इनकी अधिकता होने पर इन्हें अन्य देशों को निर्यात किया जाता है। गाँवों की महत्ता देखकर ही हमारे पूर्व प्रधानमंत्री ने ‘जय किसान’ का नारा दिया था।

गाँवों में भारतीय संस्कृति का असली रूप-यद्यपि गाँवों के रहन-सहन और रीति-रिवाजों में बदलाव आया है, परंतु आज भी गाँवों में भारतीय संस्कृति अपने मूल रूप में विद्यमान है। माता-पिता, दादा-दादी के चरण छूना, बड़ों द्वारा प्रसन्न होकर आशीर्वाद देना, भारतीय संस्कृति के अनुरूप पहनावा तथा अन्य व्यवहार आज भी देखे जाते हैं, जो हमारी प्राचीन संस्कृति की याद दिलाते हैं। ग्रामीण आज भी ‘हाय-हेलो’ और ‘बाय-बाय’ पसंद नहीं करते हैं।

उपसंहार – आज भी दूर-दराज के ऐसे अनेक गाँव हैं जहाँ बिजली, पक्की सड़कें विद्यालय आदि नहीं हैं। इन गांवों का विकास होना अभी बाकी है। सरकार को चाहिए कि ऐसे गाँवों को भी विकास की मुख्यधारा से जोड़कर इनका भी उद्धार करे, क्योंकि ऐसे गाँवों का विकास किए बिना देश के विकास की बात सोचना बेईमानी होगी।

Leave a Comment