On The Rule of the Road Summary in English and Hindi by A.G. Gardiner

On The Rule of the Road Summary in English and Hindi Pdf. On The Rule of the Road is written by A.G. Gardiner. Learncram.com has provided On The Rule of the Road Objective Questions and Answers Pdf, Essay Chapter Story Ka Meaning in Hindi.

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

On The Rule of the Road Summary in English and Hindi by A.G. Gardiner

On The Rule of the Road Summary in English

A.G. Gardiner (1865 – 1946) in his essay “The Rule of the Road” points out what constitutes the true liberty. He begins by giving an example of an old lady who insisted on walking in the middle of the road in Petrogard instead of on the pavement. Her argument was that she had got liberty now to do so. She did not realize that like her, the cab-driver was also entitled to drive on the pavement. If such a thing happened, there would be traffic jams and chaos everywhere and nobody would be able to reach his or her destination in time. Such an individual liberty would result in complete anarchy in society.

The author thins that these days people are increasingly getting liberty drunk, which is very dangerous. Therefore, we must understand the rule of the road. It means that in order to preserve the liberty of all, the liberties of everyone must be curtailed. The traffic policeman should be taken as a symbol of liberty and not of anarchy when he is controlling traffic. Some curtailment of private liberty is necessary so that everyone may enjoy a social order that mades liberty a reality because liberty is not only a personal affair but also a social contract.

If a person’s liberty does not affect other’s liberty, then he can so as he likes. For example he may wear the type of clothes which he likes, wear shoes or walk bare feet, support long or short hair. He can follow his fancy by going to bed late or getting up early. He need not ask anybody’s permission in such things. But the moment his personal liberty begins to affect others, then it must be restricted. He may play his musical instrument as loudly as he wants if it does not disturb his neighbours. But he should ensure that his actions do not encroach upon the liberty of other people.

The author gives another example of a person who entered a railway carriage and disturbed him with his loud talking when he was trying to read Blue-book. The man talked common place things with his friend in a loud and pompous voice and forced the author to stop reading. The author did not object lest he should be considered a very rude fellow. He feels that a reasonable consideration, for the rights and feelings of others is the foundation of social behaviour. He is of the view women are less civilised in this respect than men. The reason is that men are better trained than women in give and take of social relationship because they have lived more in broad current of the world. They have learnt from their school life, their club life and games. But not women are beginning to enjoy these things.

The writer believes that the rights of small people and quiet people are also important to preserve. Motorists have no right to disturb others by blowing their horns deliberately and noisily. Similarly, one should listen to his gramophone inside his house maintaining privacy and not disturbing his neighbours. The fact is that we can be neither complete anarchists nor complete socialists in this complex world of ours. We must be a reasonal mixture of both. We must preserve our own liberty and our social liberty as well. This can be done by observing the rule of the road. In life great moments of heroism and sacrifice are rare. So, only the little habits of social behaviour can sweeten or make our life bitter.

On The Rule of the Road Summary in Hindi

1. A stout old. …………… become social anarchy.
अनुवाद : पीट्रोगर्ड में एक बूढ़ी साहसी महिला सड़क के बीच टोकरी लेकर चलकर यातायात में अस्त-व्यस्तता पैदा कर रही थी और स्वयं को भी कम खतरे में नहीं डाल रही थी। उसे बताया गया कि पैदल यात्रियों के चलने का सही स्थान फुटपाथ है, परन्तु उसने उत्तर दिया, “मैं जहाँ चाहूँ, चलूंगी। अब हमें स्वतन्त्रता प्राप्त हो गई है।” उस प्रिय बूढी महिला को यह न सूझा कि यदि स्वतंत्रता पैदल यात्रियों को सड़क के बीच चलने का अधिकार देती है तो वह घोडागाड़ी वालों को भी फुटपाथ पर चलने का अधिकार देती है, और इस प्रकार की स्वतंत्रता का अंत सर्वव्यापक गड़बड़ होगा । सब एक-दूसरे से टकराते रहेंगे और कोई कहीं न पहुँचेगा। व्यक्तिगत स्वतंत्रता सामाजिक अराजकता बन जाएगी।

2. There is a danger ………………………. your liberty a reality.
अनुवाद : आजकल उस टोकरी वाली बूढ़ी महिला की भाँति संसार में आजादी का नशा होने का खतरा है और यह उचित है कि हम याद रखें कि सड़क के नियम का क्या अर्थ है। इसका अर्थ यह है कि सबकी स्वतंत्रता को सुरक्षित रखने के लिए प्रत्येक व्यक्ति की स्वतंत्रता कम करना आवश्यक है। जब पिकडली सर्कस में पुलिसमैन सड़क के बीच आकर अपना हाथ ऊपर करता है, वह निरंकुशता का नहीं, बल्कि आजादी का प्रतीक है। आप ऐसा सोच सकते हैं। हो सकता है कि आप जल्दी में हों और अपनी मोटरकार उसके अधिकार की उद्दण्डता से रोके जाने को आप समझें कि आपकी आजादी की अवहेलना हुई है। वह आदमी आपके जनपथ के प्रयोग करने के अधिकार में बाधा डालने का दुस्साहस कैसे कर सकता है ? परन्तु यदि आप समझदार व्यक्ति हैं तो आप इस पर विचार करेंगे कि यदि वह आपके काम में दखल न देगा तो वह किसी के काम में रोक-टोक न करेगा, और परिणाम यह होगा कि आप पिकडली सर्कस कभी पार न कर सकेंगे। आपने अपनी निजी आजादी कटवाने में सहमति प्रकट इसलिए की कि आप एक सामाजिक व्यवस्था का लाभ उठा सकें जिसके कारण आपकी आजादी वास्तविक बनती है।

3. Liberty is not………………………….no man’s permission.
अनुवाद : आजादी व्यक्तिगत मामला नहीं है, बल्कि सामाजिक समझौता है। यह हितों का समायोजन है । जिन मामलों में किसी दूसरे व्यक्ति की आजादी में अन्तर नहीं पड़ता, मैं वह कुछ भी करने को स्वतंत्र हूँ। यदि मैं स्टैंड में लम्बा चोगा पहनकर, लम्बे बाल व नंगे पाँव जाना चाहूँ तो मुझे कौन ना करेगा? आपको मुझ पर हँसने की आजादी है, परन्तु मुझे आजादी है कि मैं इसकी परवाह न करूँ, और यदि मुझे अपने बाल रंगना, या मूंछों पर मोम लगाना (जो ईश्वर करे मैं न करूँ) या ऊँचा टोप पहनना, या फ्रॉक कोट और चप्पल पहनना, या देर से सोना या जल्दी उठना अच्छा लगता है, तो मैं अपनी इच्छा पूरी करता हूँ और इसके लिए किसी आदमी की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है।

4. In all these………………………….to their liberties.
अनुवाद : इन सब में और हजार अन्य बातों में आप और मैं जो हम चाहें कर सकते हैं और हमें किसी आदमी की अनुमति की आवश्यकता नहीं है। हमारा पूरा राज्य है जिसमें हम अकेले शासन करते हैं, जो हम चाहें कर सकते हैं, बुद्धिमान या हास्यकर बन सकते हैं, कठोर या सरल बन सकते हैं, पारम्परिक या विचित्र बन सकते हैं। परन्तु ज्यों ही हम उस राज्य से कदम बाहर रखते हैं, तो हमारी कार्य करने की व्यक्तिगत आजादी दूसरे लोगों की आजादी से सीमित हो जाती है। मैं आधी रात से प्रातः तीन बजे तक तुरही बजाने का अभ्यास करना चाहता हूँ। यदि मैं हेलवेली के शिखर पर जाऊँ तो मैं अपनी मन-मर्जी कर सकता हूँ, परन्तु यदि मैं ऐसा बाहर सड़क पर करता हूँ तो पड़ोसी मुझे याद कराएँगे कि मेरी तुरही बजाने की आजादी को उनकी चैन से सोने की आजादी में दखल नहीं देना चाहिए । दुनिया में बहुत लोग हैं, और मुझे अपनी आजादी को उनकी आजादी के साथ समायोजित करना है।

5. Weare all liable…………………………of our own.
अनुवाद : हम सब यह भूल सकते हैं और दुर्भाग्यवश, हम इस बारे में अपनी त्रुटियों की अपेक्षा दूसरों की त्रुटियों के बारे में अधिक सचेत रहते हैं।

6. I got into a………………………….on around you.
अनुवाद : एक दिन प्रातः मैंने एक देहाती स्टेशन पर रेल के डिब्बे में प्रवेश किया और जिसे स्कूल के बच्चे एक घंटे का परिश्रम से पढ़ना कहते हैं, मैं ब्लू बुक पढ़ने के लिए बैठ गया। मैं मनोरंजन के लिए नहीं पढ़ रहा था। सच बात तो यह है कि मैं ब्लू बुक कभी मनोरंजन के लिए नहीं पढ़ता। मैं तो उनको ईमानदारी से पैसा कमाने के साधारण से उद्देश्य के लिए पढ़ता हूँ। अब, यदि आप कोई पुस्तक मनोरंजन के लिए पढ़ रहे हों तो इससे कोई अन्तर नहीं पड़ता कि आप के आस-पास क्या हो रहा है।

7. But when you are………………………….song of long ago.
अनुवाद : परन्तु जब आप काम के लिए पढ़ रहे हों तो आपको यथोचित शान्ति की आवश्यकता होती है, और यह मुझे प्राप्त न हुई, क्योंकि अगले स्टेशन पर दो आदमी अन्दर आए, जिनमें से एक अपने मित्र के साथ आडम्बरपूर्ण ध्वनि में समस्त यात्रा के समय बातें करता रहा । जब मैं धाराओं व भागों से जूझ रहा था। उसकी आवाज आँधी की भाँति उठी और मेरा कार्य में ध्यान लगाए रहने का प्रयास उसके परिवार के इतिहास, युद्ध में उसके बेटे के कारनामों, सेनापतियों व राजनेताओं की आलोचना के नीचे डूब गया। मैंने ब्लू बुक को बन्द कर दिया और खिड़की से बाहर देखने लगा और ऊब कर उसकी बातें सुनने लगा। उसकी आवाज गरज रही थी जिसका विषय कुछ इस प्रकार था, “फ्रांस को क्या करना चाहिए था…..” “जर्मनों ने यह गलती की….” “यदि एसक्विथ ऐसा करता…..”, आप इस प्रकार की बातों को जानते ही हो। मैंने यह पहले कई बार सुना था। यह बैरल ऑर्गन की भाँति था जिसमें कोई अरुचिकर पुराना गीत सिसकियाँ ले रहा हो।

8. IfIhadasked………………………….of social conduct.
अनुवाद : यदि मैं उससे कहता कि कृपया अपनी आवाज मध्यम करो तो मुझे विश्वास है कि वह मुझे उद्दण्ड समझता। उसे यह न सूझा कि किसी को उसकी बातें सुनने से अधिक महत्त्वपूर्ण कार्य भी करना हो सकता था और जब मैं डिब्बे से बाहर आया तो मुझे विश्वास हो गया था कि उसकी कृपा से सबकी यात्रा ज्ञानवर्धक रही थी। दूसरों के अधिकारों व भावनाओं की, ओर उचित ध्यान देना सामाजिक आचरण का आधार होता है।

9. I believe that……….. …………take your turn?
अनुवाद : मेरा विश्वास है कि छोटे लोगों व शान्त लोगों के अधिकारों की रक्षा करना उतना ही महत्त्वपूर्ण है जितना कि छोटे राष्ट्रों के अधिकारों की । जब मैं कोई परेशान करने वाला हॉर्न सुनता हूँ जो कुछ लोग जान-बूझकर बजाते हैं तो मुझे इतना ही क्रोध आता है जितना मुझे तब अनुभव हुआ जब जर्मनी आक्रमणकारी घौसिए की भाँति बेल्जियम को रौंदते गये थे। जनाब, आप किस अधिकार से सड़क पर उन सबको कोसते चलते हो जो आपके रास्ते में रुकावट बने हुए हैं? क्या आप अपने आगमन की घोषणा भद्र पुरुष की भाँति नहीं कर सकते ? क्या आप अपनी बारी की प्रतीक्षा नहीं कर सकते ?

10. And there is the………………………….their flower-beds.
अनुवाद : और एक और अनपकारी व्यक्ति है जिसने एक ऊँची ध्वनि वाला साधारण-सा ग्रामोफोन खरीदा है, और रविवार को तीसरे पहर उसे चालू कर देता है, खिड़कियां खोल देता है और गली को ‘कीप द होम फायर्ज बर्नइंग’ या किसी अन्य घिसे-पिटे गाने से गुंजा देता है। इस प्रकार के मामले में सामाजिक आचरण की क्या सही सीमा है ? हम फिर तुरही का उदाहरण लेते हैं। हैजलिट का कथन है कि जो आदमी वह भयानक यंत्र को सीखना चाहता था उसे अपने घर में सीखने का अधिकार है, यद्यपि वह अपने पड़ोसियों के लिए उपद्रवी हो, परन्तु यह उसका कर्तव्य है कि वह शोर को जितना कम करना सम्भव हो, करे । उसे अपनी अटारी में इसका अभ्यास करना चाहिए और खिड़कियाँ बन्द करनी चाहिए। उसे कोई हक नहीं है कि वह अपने घर के अगले लमरे में बैठे, खिड़कियों खोल ले और पड़ोसियों के कानों में पूरे जोर . से शोर डालें, और यही बात ग्रामोफोन के बारे में है। यदि आपको ग्रामोफोन अच्छा लगता है, आपको उसे रखने का हक है, परन्तु यदि आप उस शोर को अपने घर तक सीमित करने का प्रयत्न नहीं करते तो आप अपने पड़ोसियों की आजादी में बाधा डाल रहे हैं। हो सकता है कि आपके पड़ोसियों के ‘कीप द होम फायर्ज बर्निंग’ गाना पसन्द न हो । वे अपने रविवार का तीसरा पहर शान्ति से व्यतीत करना चाहते हों और यह वैसी ही अभद्रता होगी जैसे किसी के बाग में बिन बुलाए जाना और उसकी फूलों की क्यारियों को रौंद डालना।

11. I suppose the fact………………………….our social liberty.
अनुवाद : मेरे विचार में सच बात यह है कि इस जटिल संसार में हम न तो पूर्णतः अराजकतावादी बन सकते हैं और न पूर्णतः समाजवादी-बल्कि दोनों का विवेकपूर्ण मिश्रण होना चाहिए। हमें दोनों प्रकार की आजादी की रक्षा करनी है-व्यक्तिगत आजादी की भी और सामाजिक आजादी को भी।

12. It is in the ………………….. Blue-book undisturbed.
अनुवाद : आचरण की छोटी-छोटी बातों में, सड़क के नियम का पालन करने में हम स्वयं को परख सकते हैं और कह सकते हैं कि हम सभ्य हैं या असभ्य । वीरता दिखाने या त्याग करने के अवसर बहुत कम आते है। आपसी लेन-देन की छोटी-छोटी आदतें मिलकर जीवन का बड़ा योग बनाती हैं और जीवन यात्रा को मधुर या कटु बनाती हैं। मुझे आशा है कि रेल के डिब्बे वाला मेरा मित्र इस पर विचार करेगा। तब वह अपने साथी को यह बताना तो बन्द न करेगा कि फ्रांस वालों ने कहाँ गलती की और जर्मनी ने ऐसा कहाँ किया, परन्तु वह इसे इस प्रकार करेगा कि जिससे मैं अपनी ब्लू-बुक बिना बाधा के पढ़ सकूँगा।

Word-Meanings:
Petrograd – a city of Russia = रूस का एक नगर । liberty – freedom = स्वतन्त्रता । insolence – rude behaviour | office – official position = राज्याधिकारी । fancy (n) – liking = पसन्द । trombone-a musical instrument = तुरही। swot – hardwork = परिश्रम । blue book – book containing an official report = अधिकृत रिपोर्ट । pompous (adj) – pretentious = आडम्बरपूर्ण । barrel-organ – a musical instrument = संगीत का साज । banality-commonplace thing = तुच्छ, घिसी-पिटी।

Leave a Comment