Me and the Ecology Bit Summary in English and Hindi by Joan Lexau

Me and the Ecology Bit Summary in English and Hindi. Me and the Ecology Bit is Written by Joan Lexau. Learncram.com has provided Me and the Ecology Bit Objective Questions Answers, Story Chapter Ka Meaning in Hindi.

Students can also check English Summary to revise with them during exam preparation.

Me and the Ecology Bit Summary in English and Hindi by Joan Lexau

Me and the Ecology Bit by Joan Lexau Introduction

Joan Lexau narrates nicely the importance of a pollution-free environment in this lesson, “Me and the Ecology Bit”. The underlying meaning of the present lesson is that preaching about ecology is easy but difficult to abide by the rules of ecology preservation.

Me and the Ecology Bit Summary in English

Joan Lexau wonderfully brings out how the issue of preserving environment and saving ecology is very sensitive and difficult though it is essential for our existence.

Everybody is in favour of saving ecology but nobody wants to do anything about it. Jim, a young boy has undertaken the work of going around and telling people to preserve environment and to save ecology. Though he gets little time out of his home work, but he has fixed Saturday for visiting people to fulfill his mission. He discusses about the importance of preserving the environment with them. He also collects filth and wastes from many houses were he visits. His ecology friendly attitude is admirable.

One saturaday he goes to Mr. William’s house. He finds Mr. William burning leaves in the back yard. He pays some amount to Jim. Jim suggests him to make a compost pile of leaves, garbage and other stuffs, which is good for the garden. Mr. William does not agree to him and accuses him of the bad smell coming from his compost itself causing nose pollution. It hurts his feeling. But he goes ahead without becoming disheartened and visits Mrs. Greene to collect. Seeing him she immediately makes him responsible for throwing gum wrappers on her lawn and instructs him (Jim) to put it in the plastic bags.

She also tells him not to keep his dog free, as it digs up her yard and makes it dirty. Seeing her piling newspapers beside her garbage bag he advises her to save those papers and aluminum cans, so that new papers and aluminum could be made. He gets tired of trying to get Mrs Greene to do something about ecology. Then he goes to Mr. Johnsons house, who is getting ready to go to the post office, which is located only two blocks from there by his car. Jim tells him not to go by car for such a short distance to save ecology. But he does not agree with him. At the same time he makes him (Jim) guilty for killing a tree and grass by running over them every day, making a short cut path through Mrs. Greene’s house. But due to the long discussion held Mrs. Johnson does not go to the post office. Jim feels satisfaction over it because he made him not to pollute by his car at least for once.

Then in the last he returns back to his house because he thinks that this ecology, work is very’ much boring. When he enters in his house, he finds his mother using the electric mixer. He points out to her to do that work with her egg beater to save electricity. She, replies ironically at once asking that why he watches T.V. twenty seven hours a day, which is also the wastage of electricity. Jim thinks that nobody is willing to do anything about ecology. It is only he, who acts on the issue of saving ecology.

Thus the present lesson teaches us that preaching about ecology is easy but difficult to abide by the rules of ecology preservation.

Me and the Ecology Bit Summary in English and Hindi

जॉन लक्सॉऊ ने अत्यन्त अद्भुत ढंग से प्रस्तुत पाठ, “मी एण्ड दी एकॉलोजी विट” के द्वारा यह बताने का प्रयास किया है कि वातावरण संरक्षण तथा पर्यावरण की सुरक्षा का कार्य कितना संवेदनशील तथा कठिन है।

प्रत्येक व्यक्ति इस तथ्य का समर्थन करता है किन्तु कोई भी व्यक्ति इसके विषय में कुछ करना नहीं चाहता है । ‘जिम’ नामक एक नवयुवक लोगों के पास जाकर उन्हें वातावरण संरक्षण तथा पर्यावरण सुरक्षा के विषय में बतलाने का कार्य प्रारम्भ करता है। यद्यपि वह अपने गृहकार्य से बहुत कम समय इस कार्य के लिए निकाल पाता है। किन्तु उसने अपने उद्देश्य की प्राप्ति के लिए शनिवार का समय लोगों से सम्पर्क करने के लिए निश्चित किया है। वह उनलोगों से वातावरण संरक्षण के महत्त्व के विषय में चर्चा करता एवं समझाता है। वह कडे के ढेर नथा गन्दी वस्तुओं को भी अनेक घरों से एकत्रित करता है। उसका पर्यावरण के प्रति मित्रवत् व्यवहार एवं प्रवृत्ति भी सराहनीय है।

एक शनिवार को वह मि० विलियम के घर पहुँचता है ! वह मि० विलियम को अपने घर के पिछले खुले स्थान में वृक्ष की पत्तियों को जलाते हुए देखता है । जिम उन्हें पत्तियों, कड़े वं ढेर तथा अन्य अनुपयोगी वस्तुओं का कम्पोस्ट बनाने का सुझाव देता है । मि० विलियम उससे सहमत नहीं होते हैं। वह उसी पर दोषारोपण करते हैं कि उसके अपने निर्मित कम्पोस्ट से दुर्गन्ध __ आ रही है जिससे नाक का प्रदूषण उत्पन्न हो रहा है। इस बात से उसकी भावनाओं को ठस पहुँचती है। किन्तु निराश हुए बिना वह अपने कार्य में आगे बढ़ते हुए उसे जारी रखता है तथा मिसेज ग्रीन के यहाँ कूड़ा-कचरा इकट्ठा करने के लिए पहुँचता है।

वह अपने मैदान में गोंद लगे कागज के टुकड़ों को फेंकने के लिए जिम को जिम्मेवार ठहराती हैं। इसके साथ ही उन टुकड़ों को उठाकर कूड़ा रखे प्लास्टिक बैग में रखने का निर्देश देती है तथा उसे यह भी कहती हैं कि वह अपने कुत्ते के गले में डोरी (जंजीर) बाँधकर रखे, खुला नहीं छोड़े क्योंकि वह उनके बगीचे में आकर जमीन खोदकर पूरे उद्यान को गन्दा कर देता है। जिम की नजर उनके कूड़े के ढेर के बगल में रखे हुए समाचारपत्रों के ढेर पर पड़ी । वह उन्हें परामर्श देता है कि उन अखबारों तथा अल्युमिनियम के टुकड़ों को इकट्ठा करें जिससे नया कागज अल्युमिनियम बनाया जा सके। वह श्रीमती ग्रीन को पर्यावरण सुरक्षा के लिए कार्य करने के लिए सहमत करने में असफल रहता है। इसके पश्चात वह मि० जॉनसन के घर जाता है। वे अपनी कार से पोस्ट ऑफिस जाने को तैयार हो रहे थे जो वहाँ से निकट ही दो ब्लॉक की दूरी पर स्थित है।

जिम उनसे कार द्वारा वहाँ न जाकर पैदल जाने के लिए कहता है जिससे पर्यावरण प्रदूषित नहीं हो। किन्तु वे इसे मानने से इंकार करते हैं। इसके साथ ही वह उसे एक छोटे वृक्ष तथा घास को नष्ट करने का दोषी ठहराते हैं जो उसके द्वारा मि० ग्रीन के घर जाने के लिए पगडंडी बनाकर उसपर निरन्तर आने के कारण हुआ है। लेकिन जिम तथा जॉनसन के बीच लम्बी बाता के कारण वे पोस्ट ऑफिस नहीं जा पाते हैं । जिम को इस बात का संतोष है कि कम-से-कम एक बार वह कार द्वारा : पण फैलाने से उनको रोक सका।

अन्त में वह यह सोंचकर कि पर्यावरण संबंधी कार्य काफी उबाऊ तथा नीरस है, अपने धर वापस आता है । लेकिन ज्योंही वह घर में प्रवेश करता है, वह अपनी माँ को बिजली के मिक्सर का प्रयोग करते देखता है । वह उन्हें कहता है कि वे अपना वह काम अंडा बनाने वाले उपकरण से करें जिससे बिजली की बचत हो। उसकी माँ तत्काल व्यंग्यात्मक ढंग से उसे उत्तर देती है कि वह भी दिन में सत्ताइस घंटे टी०वी० देखता रहता है, जिसके कारण भी बिजली का दुरुपयोग होता है । जिम सोंचने लगता है कि कोई भी व्यक्ति पर्यावरण की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं करना चाहता। केवल वह ही पर्यावरण सुरक्षा के लिए कार्य करता है।

इस प्रकार प्रस्तुत पाट से हमें यह शिक्षा मिलती है कि पर्यावरण के विषय में उपदेश देना आसान है किन्तु पर्यावरण-सुरक्षा के नियमों का पालन करना उतना ही कठिन है। प्रत्येक व्यक्ति वातावरण संरक्षण तथा पर्यावरण सुरक्षा का समर्थक है लेकिन कोई भी व्यक्ति इसे करने का इच्छुक नहीं।

Leave a Comment